आबू ताहेर ने भाजपा छोडने के साथ कहा कि “यह पार्टी मुसलमानों के लिए बनी ही नहीं है”


फिर एक बार कुर्सी के लालच में कांग्रेस की चापलूसी करते हुए भाजपा की बुराई करते नज़र आ रहे हैं आबू ताहेर बेपारी। भाजपा का पलड़ा भारी देख सत्ता के लालच में कांग्रेस के पीठ पर छूरा घोप अपनी ईमानदारी और जनता के लिए कुछ कर दिखने की बात कहकर भाजपा में शामिल हुए और जब भाजपा में अपने ही कारण विधायक की कुर्सी नहीं पा सके तो भाजपा पर ही इलज़ाम लगा दिया और फिर चल दिए कांग्रेस के पीठ पर गोपे खंजर को निकालने और मरहम लगाने।

कांग्रेस के पूर्व विधायक व संसदीय सचिव रहे आबू ताहेर बेपारी को जब भाजपा में शामिल होकर विधायक पद नहीं मिल पाया तो भाजपा को मुस्लिम विरोधी बताकर दोबारा कांग्रेस में शामिल होने चल दिए। खुद अपने कुर्सी के लालच को मीडिया के सामने कबूल करते हुए आबू ताहेर बेपारी बोले कि “मैं अपना बलिदान देकर भाजपा में शामिल हुआ था, लेकिन गेरुवा दल में उस बलिदान का मुझे कोई मोल नहीं मिला”।
जिस तरह कांग्रेस का साथ छोड़ते हुए आबू ताहेर बेपारी ने अपनी ख़ुशी जताई थी ठीक उसी तरह भाजपा का साथ छोड़ते हुए आबू ताहेर बेपारी अपनी ख़ुशी जताते हुए बोले कि “भाजपा का साथ छोड़कर मैं काफी खुश हूं”। अगर आबू ताहेर बेपारी का जनता की सेवा करना ही लक्ष्य होता तो उनकी बातों में कुर्सी खोदने का गम कम, जनता की सेवा करने का मौका न मिलपाने का पछतावा झलकता। शायद इसी लालच की वजह से आबू ताहेर बेपारी विधायक की कुर्सी नहीं पा सके।

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share