दलित बच्ची ने अल्लाह की दुहाई दी, फिर भैया कहा.. लेकिन वो भैया शब्द को मानते ही नहीं थे

वो दलित किशोरी भैया भैया कहकर गिड़गिड़ाती रही, रहम की भीख मांगती रही लेकिन उन हैवान दरिंदों का दिल नहीं पिघला तथा वह उसकी आबरू लूटते रहे. उस किशोरी ने उन दरिंदों को अल्लाह का वास्ता दिया, अल्लाह के वास्ते उस असहाय दलित किशोरी ने आबरू बख्शने की अपील की लेकिन वो हैवान भैया शब्द को मानते ही न थे. शायद वो उस सोच के थे जिनके लिए लड़की होना मतलब मनोरंजन का साधन होना मात्र है, जिसे वह जैसे चाहें भोग सकते हैं तथा अगर लड़की मना करती है तो वह बलात्कार करते हैं.

मामला उत्तर प्रदेश के कौशांबी के सराय अकिल थाना इलाके का है जहाँ करीब 16 साल की एक दलित किशोरी पड़ोस के गांव में ईदगाह के पास घास काटने गई थी. आरोप है कि इसी दौरान इसी दौरान वहां मो. छोटका उर्फ़ आतंकवादी, मो. बड़का और मो. नाजिम उसे घसीटकर अमरुद के बाग़ में ले गए. इस दौरान तीनों ने वहां उसके साथ रेप किया. 16 साल की पीड़िता उनसे रहम की भीख मांगती रही. उसने यह भी कहा कि भैया आप लोग तो मुझे जानते हो, अल्लाह की कसम है तुम्हे ऐसा मत करो. लेकिन तीनों का दिल नहीं पसीजा.

गैंगरेप के बाद जान से मारने की धमकी भी दी और वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. किशोरी की चीख सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने एक युवक को पकड़ लिया और उसकी पिटाई करने के बाद पुलिस को सौंप दिया. जानकारी मिलते ही ग्रामीण आक्रोशित हो उठे तथा हंगामा शुरू कर दिया. तनाव की स्थिति को देखते हुए पुलिस फ़ोर्स पहुंचा तथा कार्यवाई का भरोसा देते हुए शांति बनाये रखने की अपील की. खबर लिखे जाने पुलिस ने जहाँ 2 हैवानों को गिरफ्तार कर लिया है तो वहीं तीसरे की तलाश जारी है. फ़िलहाल वारदात को लेकर लोगों का आक्रोश चरम पर है तथा लोग तीनों दरिंदों को फांसी की मांग कर रहे हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share