271 करोड़ लेकर फरार हो गई इस्लामिक मुल्क UAE के शासक की छठी बीवी… इस्लामिक जगत में हड़कंप

इस्लामिक जगत का केंद्र माने जाने वाले दुबई के शासक शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की छठी बेगम हया करोड़ों रूपये तथा अपने दोनों बच्चों को लेकर संयुक्त अरब अमीरात (UAE) से लापता हो गई हैं. ऐसा बताया जा रहा है कि वह घर छोड़ते वक्त अपने साथ करीब 31 मिलियन पाउंड (271 करोड़ रुपये से ज्यादा) लेकर गई हैं. दुबई के शासक की बीवी के इस तरह से फरार होने की खबरों से न सिर्फ UAE बल्कि पूरे इस्लामिक जगत में खलबली मच गई है. शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम UAE के प्रधानमंत्री तथा उपाध्यक्ष हैं.

पहले शरणार्थी आये, फिर घुसपैठी और अब आ रहे आतंकी.. रंग दिखा रही कथित सेक्यूलर राजनीति

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यूएई के प्रधानमंत्री व उपाध्यक्ष (शाह) शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की छठी बेगम से शेख के‌ रिश्ते इन‌ दिनों ठीक नहीं चल रहे थे. शुरुआती जानकारी में दुबई के शासक की बीवी हया के इंग्लैंड की राजधानी लंदन में छिपे होने की आशंका जाहिर की गई है. आपको बता दें कि हया जॉर्डन के किंग अब्दुलाह शाह की सौतेली बहन हैं तथा अब अपने शौहर UAE के पीएम शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम से तलाक लेना चाहती हैं. जानकारी के अनुसार दुबई से निकलकर हया जर्मनी में बसना चाहती हैं. उन्होंने जर्मनी की सरकार से अपने बच्चों जालिया (11 साल) और जायद (सात साल) संग रहने के लिए राजनीतिक शरण मांगी है.

हिंदुओ के बाद अब निशाने पर पुलिस ? कोर्ट में लगी थी याचिका- “पुलिस हिरासत में मरे 2 मुसलमान”.. जबकि वो वाहन चोरी के संदिग्ध भी थे

ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ीं हया को सार्वजनिक रूप से और सोशल मीडिया अकाउंट पर 20 मई के बाद नहीं देखा गया. जबकि इससे पहले उनके सामाजिक कार्यो से जुड़े फोटो सोशल मीडिया अकाउंट में भरे रहते थे. वह सामाजिक कार्यो में भी फरवरी से दिखाई नहीं पड़ रही थीं. अरब मीडिया ने अपुष्ट सूत्रों के हवाले से बताया है कि हया को दुबई से निकलने में जर्मनी के एक राजनायिक ने मदद की है. दावा यह भी किया जा रहा है कि जर्मन अधिकारियों ने हया की वापसी के लिए शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के अनुरोध को ठुकरा दिया है. इसके कारण दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संकट पैदा हो गया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW