Breaking News:

सुप्रीम कोर्ट में चल रही थी सुनवाई, तभी शौहर ने मुस्लिम महिला से बोला- तलाक… तलाक… तलाक


गोंडा : देश भर में तीन तलाक पर लगातार बहस हो रही है। इस बीच एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे। दरअसल, ये मामला गोंडा का है, जहां पर एक मुस्लिम महिला को उसके पति ने सुप्रीम कोर्ट में ही तलाक दे दिया। गोंडा के अदालत परिसर में एक मुस्लिम परिवार गुजारा भत्ता की सुनवाई के लिए वहां आया था तभी किसी बात पर दोनों के बीच अनबन हो गई और पति ने कोर्ट परिसर में ही अपनी पत्नी को तलाक दे दिया और वहां से भाग गया।

तीन तलाक सुनते ही महिला कोर्ट परिसर में बेहोश हो गई। उस महिला की एक डेढ़ साल की बच्ची भी है। बता दें कि उस महिला का नाम रुकैया खातून और शौहर का नाम महफूज़ अहमद था। इनका निकाह 8 नवंबर, 2014 में हुआ था। निकाह के दौरन महफूज़ अहमद ने दहेज बाइक, सोने की चेन और नकदी की मांग की थी। जिसके बाद रुकैया खातून ने निकाह के वक्त कुछ मांगे पूरी कर दी थी और बची हुई मांगों के लिए रोज रुकैया को परेशान किया जाता था।

जिसके बाद 10 जून, 2015 को रुकैया ने पति समेत 6 लोगों के खिलाफ दहेज मांगने के जुर्म में केस दर्ज कराया और गुजारे भत्ते की अर्जी दी थी। वहीं, इस मामले को लेकर मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि अगर महिला इस बारे में सूचित करती है तो उसके शौहर का सामाजिक बहिष्कार होगा, उनके घर के पास वाली मस्जिद में इस बात का ऐलान करवा दिया जाएगा। बता दें कि हाल ही में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि जो भी व्यक्ति अपनी पत्नी को इस प्रकार तीन तलाक देगा तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जायेगा।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...