सुदर्शन की खबर का बड़ा असर.. दिल्ली में संत रविदास का मन्दिर तोड़े जाने पर बंद हुआ पंजाब.. कई जिलो में बंद हुए स्कूल

जिस खबर को सुदर्शन न्यूज ने प्रमुखता से दिखाया था अब उस खबर का व्यापर असर पूरे भारत में दिखाई दे रहा है . जहाँ एक तरफ दिल्ली की तमाम मस्जिद और मजारो को क्लीन चिट दे कर उसको वैध घोषित किया जा रहा है तो वही जैसे ही 100 साल पुराना संत रविदास का मन्दिर तोडा गया वैसे ही सुदर्शन न्यूज ने प्रमुखता से इसको उठाया और सरकार की मंशा के साथ उनकी दोगली नीति पर भी सवाल उठाये जिसके बाद अब उसका व्यापक असर दिखाई देने लगा है .

दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में कुछ कट्टरपन्थियो को खुश करने के लिए मन्दिर को तोड़ने का जो फरमान जारी किया गया था अब उनको उल्टा पड़ता दिखाई दे रहा है . सुदर्शन न्यूज पर इस खबर को प्रमुखता से दिखाए जाने के बाद दिल्ली के साथ साथ पंजाब तक इसका असर दिखना शुरू हो गया है और हर तरफ सरकार की व्यापक निंदा होने लगी . दिल्ली में गुरु रविदास मंदिर तोड़ने के विरोध में मंगलवार दोपहर बाद पुलिस के पहरे में पंजाब में रविदासिया समाज का आंदोलन उग्र हो गया।

हालत यहाँ तक बन गये हैं कि बंद के दौरान सूबे के सभी जिलों को पुलिस द्वारा सुरक्षा की दृष्टि से हाई अलर्ट जारी किया गया है जबकि ऐहतियात के तौर पर जालंधर, होशियारपुर, कपूरथला और गुरदासपुर के सारे स्कूल और कॉलेज बंद रहे.. जालंधर में दिल्ली हाईवे को बंद कर प्रदर्शनकारियों ने पंजाब बंद का आगाज कर दिया था लेकिन दोपहर 12 बजे के बाद विभिन्न शहरों में हजारों की तादाद में लोग सरकार की तानाशाही के विरोधी में सड़कों पर उतर आए और प्रदर्शन आदि शुरू कर दिया .

प्रदर्शन कर रहे उग्र प्रदर्शनकारियो ने सरकार की इस हरकत को तालिबानी हरकत करने वाला बताया . कई जगहों पर प्रदर्शन करने वालों की पंजाब पुलिस से झडप भी हुई .. रविदास समुदाय ने 21 अगस्त को दिल्ली के जंतर-मंतर में प्रदर्शन की चेतावनी दी है। रविदासिया समाज के लोंगों की सर्वाधिक आबादी जालंधर, होशियारपुर, कपूरथला और गुरुदासपुर में है। इन्हीं जिलों में आंदोलन का सबसे ज्यादा असर दिखा . प्रदर्शन करने वालों ने इस मामले में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक के हस्तक्षेप की मांग की है .

होशियारपुर के मुकेरियां में पुलिस को प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए हवाई फायरिंग और नवांशहर में  लाठीचार्ज करना पड़ा। सुबह बारिश हो रही थी, इसके बावजूद रविदासिया समाज के लोग सड़कों पर आ गए। नकोदर मार्ग ठप कर पठानकोट नेशनल हाईवे और अमृतसर नेशनल हाईवे भी अवरुद्ध कर दिया गया।  बंद का एलान करते हुए ऑल इंडिया आदि धर्म मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष संत सतविंदर हीरा और साधु समाज के प्रधान संत सरवण दास महाराज ने कहा था कि हमारे समाज की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं. अब उनके संगठित होने का अहसास करवाना है.

Share This Post