अगर आपका दिल्ली में कभी मोबाइल चोरी हुआ होगा तो शायद उसमें ये अशरद, अकबर, अब्दुल जरूर शामिल होंगे…


एसीपी डॉ हेमंत तिवारी की अगुवाई में एक टीम गठित की गई जो चोरों पर लगाम कसने के लिए बनाई गई है। टीम गठित होते ही दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे गैंग को पकड़ा है जो अपनी अय्याशी के लिए राह चलते आम नागरिकों से मोबाइल फ़ोन चेन सब कुछ छीन लेते थे। और फिर उन मोबाइलों को बेचने के लिए बस स्टॉप रेलवे स्टेशन मेट्रो स्टेशन पर खड़े लोगों से अपनी मज़बूरी दिखाकर आधे दामों पर बेच देते थे।
पुलिस ने गैंग के तीन लोगों को हिरासत में लिया है, वही पर दिल्ली पुलिस के तरफ से इस गैंग की गिरफ्तारी होते ही 50 से ज्यादा स्नैचर मामलों को सुलझाने का दावा किया है। डीसीपी ओमवीर सिंह बिश्नोई कहा कि प्रीत विहार थाने में तैनात सिपाही संदीप दहिया को जानकारी मिली कि मोबाइल झपटमारी में लिप्त कुछ युवक प्रीत विहार इलाके में आने वाले हैं।
जिसके बाद डॉ. हेमंत तिवारी की अगुवाई में गठित टीम ने इन तीनो स्नैचर को गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान मोहम्मद अशरद, अकबर और अब्दुल के रूप में की गई। पुलिस ने मौके पर इन बदमाशों से 16 फ़ोन 5 बाइक और 4 स्कूटी बरामद किया है। पूछताछ में तीनों ने कहा कि वह अपनी अय्याशी के लिए वारदातों को अंजाम देते थे।

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...