फौज ने कहा- तैयारी है पूरी, जिसे भी जब भी जहां भी भिड़ना है आ जाए….

भारत अपनी सुरक्षा के लिए तत्पर है। अपने पड़ोसी देशों के लिए भारत हर वक्त खड़ा रहता है। भूटान जैसे छोटे देशों पर चीन की बुरी नजर है। भारत-भूटान में दोस्ती है और भारत भूटान को बचाने के लिए कुछ भी कर सकता है। भारत और चीन के बीच डोकलाम पर तनातनी थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। भारत इस बार पीछे हटने को तैयार नहीं है।

इतिहास में पहली बार भारत किसी दूसरे देश के लिए चीन के खिलाफ खड़ा है। भारत विवाद को दोनों तरीके से निपटने के लिए तैयार बैठा है। कूटनीति का तरीका चला तो ठीक वर्ना वार ही सही ,बात से मानें तो ठीक वर्ना जवाब वार से मिलेगा। मीडिया सूत्रों की माने तो चीन भूटान पर दबाव बनाने के लिए कोई भी कदम उठा सकता है। भारत किसी भी स्थिति से निपटने के लिए कमर कस कर तैयार है।
भारत ने सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राइजंक्शन पर सैन्य मौजूदगी मजबूत कर ली है। समुद्र से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित इस क्षेत्र में अतिरिक्त सेना की तैनाती की जा रही है। ये सैनिक किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। आपको बता दें कि भारत और चीन के जवान आमने-सामने सटे हुए हैं, वहां दोनों देशों के महज 300 से 400 सैनिक ही डटे हुए हैं।
सैनिक एक दूसरे को लाल झंडे दिखाते है। मिली जानकारी के मुताबित, भारत की सैन्य टुकड़ी यहाँ बेहतर स्थिति में है। चीनी सेना के मुकाबले उन्हें बेहतर साजोसामान की सप्लाई उपलब्ध है। इस बीच चीन बयानों से लगातार भारत को डराने के लिए आक्रमक हो रहा है। चीन के बयानों से लग रहा की भारत की स्थ्ती देख बौखला गया है।
Share This Post

Leave a Reply