पाकिस्तान भले ही बढ़ाना चाहता हो अपने कदम कश्मीर में लेकिन भारत ने बढ़ाये एक बार फिर तेजी से कदम अंतरिक्ष में…

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो रचने जा रही है नया इतिहास इसरो ने मंगलवार को कहा कि पांच जून को अपने सबसे भारी रॉकेट के जरिए संचार उपग्रह जीसैट-19 को लॉन्च करेगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, जीएसएलवी मार्क3 (जीएसएलवी-एमके3) रॉकेट को पांच जून को शाम 5.28 बजे छोड़ा जाएगा। यह रॉकेट भौगोलिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) तक चार 
टन वजन ढोने में सक्षम है। 
रॉकेट जीसैट-19 उपग्रह को ले जाएगा, जिसका वजन 3,136 किलोग्राम है। इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से छोड़ा जाएगा।जीएसएलवी-एमके3-डी1 त्रिस्तरीय रॉकेट है, जिसमें दो स्ट्रैप-ऑन सॉलिड मोटर, एक द्रव्य प्रणोदक कोर चरण तथा एक क्रायोजेनिक चरण (सी25) लगा है।
जीसैट-19 में कुछ अति उन्नत विमान प्रौद्योगिकी लगे हैं, जिसमें हीट पाइप, फाइबर ऑप्टिक जायरो, माइक्रो-मैकेनिकल सिस्टम्स (एमईएमएस) एक्सीलेरोमीटर, केयू-बैंड टीटीसी ट्रांसपोंडर तथा एक स्वदेशी लीथियम आयन बैटरी से लैस है।
Share This Post