इतिहास में पहली बार भारत की सेना जवाब दे रही भारत के ही नेताओं को.. सैनिको पर सवाल दे रहा राष्ट्रभक्तो को आघात

शायद ही इस से पहले भारत की सेना को ऐसे हालत देखने पड़े रहे हों . भारत की जांबाज़ फ़ौज ने एक पायलट को जैसे तैसे पाकिस्तान से छुड्वाया . पाकिस्तान खुद भी मान रहा है कि उसके इलाके में बमबारी हुई है लेकिन भारत के तमाम राजनेता अचानक ही एक हो गये हैं भारत की जांबाज़ और बलिदानी सेना के खिलाफ और उनको मजबूर कर दिया है मीडिया के सामने आने के लिए . इस पूरे मुद्दे का पाकिस्तान मखौल उड़ा रहा है और इसको अपनी कूटनीतिक वो जीत मान रहा है जो उसकी सेना उसको कभी नहीं दिला सकती है . फिलहाल भारत के नेताओं ने सेना को निशाने पर ले लिया है .

वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने पाकिस्तान के बालाकोट पर हवाई कार्रवाई पर सोमवार को स्पष्ट करते हुए कहा कि लक्ष्य को भेदा गया है और वायुसेना का काम हताहतों की गिनती करना नहीं है। वायुसेना प्रमुख ने यह भी कहा कि अगर जंगलों पर बम गिराये गये होते तो पाकिस्तान जवाबी कार्रवाई क्यों करता। धनोआ ने मीडिया से कहा” वायुसेना के पास इस कार्रवाई में हताहत हुए लोगों की संख्या की कोई जानकारी नहीं है । इस बारे में सरकार बतायेगी । हम हताहत लोगों की गिनती नहीं करते ,हमनें लक्ष्य को भेदा अथवा नहीं भेदा इसकी जानकारी रखते हैं।”

उन्होंने कहा कि यदि लक्ष्य पर निशाना नहीं होता तो फिर विदेश सचिव इस पर आधिकारिक बयान क्यों जारी करते। यदि जंगल में बम गिरे होते तो विदेश सचिव इस पर बयान क्यों देते और पाकिस्तान जबाबी कार्रवाई क्यों करता। लेकिन उधर बह रही थी एक उलटी गंगा जिसको बहा रहे थे भारत के ही तमाम राजनेता . पाकिस्तान अधिकृत कश्‍मीर (पीओके) में भारतीय वायुसेना की ओर से जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकी ठिकानों पर की गई एयर स्‍ट्राइक पर कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर विवादित टिप्‍पणी की है. सोमवार को उन्‍होंने ट्वीट करके सवाल किया, ‘पीओके में 300 आतंकी मारे गए, हां या ना? उन्‍होंने लिखा कि एयर स्‍ट्राइक का मकसद क्‍या था? क्‍या आपने आतंकी मारे या पेड़ गिराये? क्‍या यह चुनावी हथकंडा है?’

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने बालाकोट एयर स्ट्राइक में हताहतों की संख्या को लेकर सवाल उठाया है. उन्होंने पूछा है कि इस स्ट्राइक में हताहतों की संख्या 300-350 किसने बताई? चिदंबरम ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा, ”भारतीय वायुसेना के वाइस एयर मार्शल ने हताहतों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया कि कोई नागरिक या सैनिक हताहत नहीं हुआ. तो हताहतों की संख्या 300-350 किसने बताई?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि देश की एयर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों की लाशें देखना चाहता है। कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि दुनिया के कई अखबार कह रहे हैं बालाकोट में कुछ नहीं हुआ, तो क्या वह पाकिस्तान समर्थक हैं?

Share This Post