14 साल की उम्र में आतंकी बना था, 14 महीने भी नहीं चल पाया और आखिरकार सेना ने ही दिया उचित दंड

उसने हिंदुस्तान की माटी में जन्म लिया, हिंदुस्तान की हवा में सांस ली, हिंदुस्तान का ही अन्न खाया तप हिन्दुस्तान को भी उससे उम्मीद थी कि वह देश को प्रगति के पाठ पर ले जाने में अपना योगदान देगा. लेकिन मात्र 14 साल की उम्र में ही उसने हथियार उठा लिया तथा एलान कर दिया हिंदुस्तान के फौजियों का क़त्ल करने का, हिंदुस्तान को खंडित करने का. लेकिन इससे पहले कि वह अपने नापाक इरादों में कामयाब हो पाता, भारतीय सेना ने उसे उसकी जगह दिखा दी है.

आपको बता दें कि शनिवार को आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना ने 14 साल के आतंकी मुदासिर को मार गिराया. मुदासिर की तस्वीर पिछले हफ्ते सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी. फोटो में वह AK-47 के साथ दिख रहा था. पुलिस का मानना है कि यह तस्वीर तीन महीने पुरानी है. हाजिन बांदीपोरा का रहने वाला मुदासिर अपने एक अन्य साथी के साथ 31 अगस्त से घर से गायब था. पुलिस के मुताबिक 9वीं क्लास में पढ़ने वाला मुदासिर राशिद आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा से जुड़ गया था.

शनिवार को मजगुंड में सीआरपीएफ और कश्मीर पुलिस कासो (CASO) के तहत सघन तलाशी अभियान चला रही थी. इस दौरान दो से तीन आतंकी फंस गए और सुरक्षाबलों पर फायरिंग करने लगे. सुरक्षाबलों की ओर से जवाबी फायरिंग की गई. इस मुठभेड़ में सुरक्षाबल के तीन जवान घायल हैं, उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है. लेकिन भारतीय सेना ने मुदासिर सहित दो आतंकियों को इस दुनिया से हमेशा के लिए आजादी दे दी. 14 साल का आतंकी मुदासिर 14 साल भी नहीं चल पाया तथा भारतीय सेना ने उसे मार गिराया.

Share This Post