श्रीराम नवमी पर वध हुआ दो दानवों का.. भारत की फौज ने कश्मीर में मार गिराए जैश-ए-मोहम्मद के 2 इस्लामिक आतंकी

कल जब पूरा देश सनातन के आराध्य प्रभु श्रीराम का जन्मोत्सव मना रहा था, श्रीरामनवमी मना रहा था.. उस समय देश की रक्षक भारतीय सेना के जांबाज जवान में इस्लामिक आतंकियों से लोहा ले रहे थे. श्रीरामनवमी पर भारतीय सुरक्षाबलों के जवानों की बंदूकें गरज उठी तथा उन्होंने शोपियां जिले में इस्लामिक आतंकी दल जैश-ए-मोहम्मद के दो इस्लामिक आतंकियों को मार गिराया. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान रावलपुरा शोपियां के आबिद वागेय और अमशेपुरा शोपियां के शाहजहां मीर के रूप में हुई है.

बांग्लादेशी घुसपैठियों का सबसे बड़ा समर्थक और पत्रकारों को अपमानित करने वाले मुस्लिम सांसद का मोदी के खिलाफ एलान सुन उगे हुए हिन्दू समूह

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि दक्षिण कश्मीर में शोपियां जिले के गाहंद क्षेत्र में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में ठोस सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने आज सुबह घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया. उन्होंने बताया कि तलाश अभियान के दौरान आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी. इस पर सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई शुरू की जिसमें दो आतंकवादी मारे गए. मुठभेड़ स्थल से आतंकवादियों के शव, हथियार एवं गोला-बारूद तथा अन्य चीजें बरामद हुई हैं.

भगवा वस्त्र पहने लोगों को वोटों के लिए बोल दिया गया “हत्यारा”.. तेजी से मोड़ लेती भारत की राजनीति

पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए दोनों आतंकवादी जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वे सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले करने और आम नागरिकों पर अत्याचार करने जैसे सिलसिलेवार आतंकी कृत्यों में वांछित थे.’’ उन्होंने बताया कि मारे गए आतंकवादी आम नागरिकों- फिरदौस अहमद और निसार अहमद तथा पुलिसकर्मी बलवंत सिंह के अपहरण और हत्या में शामिल थे. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वे (मारे गए आतंकवादी) इस साल के शुरू में विएल शोपयां में खुशबू जान की हत्या में भी शामिल थे. इसके अतिरिक्त, दोनों शोपियां में कचदूरा के बेमनीपुरा के आम नागरिक तनवीर अहमद की हत्या में भी शामिल थे. साथ ही ये दोनों आतंकवादी कांजीउल्लार और रामनगर में आगजनी और पंचायत घरों को जलाने की घटनाओं में भी शामिल थे.”

निकाह का लालच दिया, लड़की तय हो गई और अब वो दलित युवक बन गया मुसलमान.. दहाड़ें मार कर रोते घरवाले पुलिस की शरण में

प्रवक्ता ने बताया कि मीर पिछले साल शोपियां के अरहामा में हथियार छीनने और चार पुलिसकर्मियों की हत्या में भी शामिल था. उन्होंने कहा, ‘‘वह (मीर) शोपियां थाने पर हमला करने में भी शामिल था जिसमें पुलिसकर्मी साकिब मोहिउद्दीन शहीद हो गए थे और उनकी राइफल छीन ली गई थी.’’ प्रवक्ता ने बताया कि मीर मंझगाम डी एच पुरा निवासी युवक हुजैफ अशरफ के अपहरण और हत्या में भी शामिल था. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए दोनों आतंकवादियों के खिलाफ अनेक मामले दर्ज थे. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के प्रयास से यह बहुत ही सटीक अभियान रहा और मुठभेड़ के दौरान आसपास कोई नुकसान नहीं हुआ.’’

14 अप्रैल- जन्मजयन्ती भीमराव अम्बेडकर जी! जिनके नाम से साजिशन हटाया गया था एक शब्द जातिवादी नेताओं द्वारा, जिसे दोबारा जोड़ा गया योगी राज में

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post