कश्मीर में एक स्थान था तोरा बोरा… यहां नहीं घुसती थी पुलिस, लेकिन अब घुसी है फौज

लगातार कश्मीर में यह कट्टर आतंकी घुसपैठ करने की फिराक में लगे रहते है। यही कट्टर आतंकी हमेशा से पीठ पीछे वार करने से बाज़ नहीं आते हैं। अगर

भारतीय सुरक्षाबालो की बात की जाए तो वह इन आतंकियो को करारा जवाब देने में लगी हुई है । हाल ही में भारतीय सेना ने कश्मीर में कई आतंकियों को ढेर किया

है जिसके बावजूद भी यह आतंकी बेखौंफ हो कर कश्मीर में अपना डेरा ज़माने की फिराक में लगे हए हैं।

बता दें कश्मीर में पखारपुरा जिला एक ऐसा जिला है जहाँ

आतंकी बढ़ी तादात में अक्सर छिपे हुए होते हैं जहाँ एक बार फिर सुरक्षाबलों ने इन आतंकियों को ढेर किया।

बता दें कश्मीर के पखारपुरा जैसे इलाके में जिस मुठभेड़ में जैश ए मोहम्मद के चार आतंकवादी मारे गये थे, उसे ‘तोरा-बोरा’ नाम से चर्चित इलाके में सुरक्षाबलों

के पहली बार कदम रखने के रुप देखा जा रहा है।करीब 45 किलोमीटर दूर तोरा बोरा दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के घुस आने का मार्ग है।

इसके साथ ही

पिछले साल आठ जुलाई हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से कश्मीर में अशांती देखने को मिल रही है। इसके अलावा इस

इलाके में घना जंगल और गहरी है जिससे इन आतंकियों को बचने में और छिप के हमला करने में मदद मिलती है। अधिकारी ने बताया कि पिछले दो-चार साल

में लोकप्रिय हुए एक धर्मस्थल होने के कारण पखारपुर में लोगों का आना-जाना लगा रहता है।

इससे सुरक्षाबलों के लिए आतंकवादियों की त्वरित पहचान करना

मुश्किल हो जाता है।

जानकारी के मुताबिक सेना ने सुरक्षा के चलते हाल ही में पखारपुरा के पास एक बटालियन तैयार कर वहां की जानकारी लेने के लिए 1000 कर्मियों को भेजा

गया था। ख़ुफ़िया एजेंसी द्वारा यह बताया गया है कि पखारपुरा में इन आतंकियों के काफी नेटवर्क हैं इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया है कि कुजवेरा,

मागरेय पुरा, ब्रह्मपुरा, कैसेमुल्ला, गोहारपुरा, काजीपुरा, वानबघ, हयात पुरा, मालपुरा जैसे इलाके सबसे खतरनाक छेत्रो की गिनती में आते हैं।

Share This Post

Leave a Reply