एक विदेशी तंज कस रहा है हम भारतीय नागरिकों पर. बेहुदे अंदाज में भारतीयों को बता रहा है मुफ्तखोर…

नई दिल्ली : भारत में बड़ी संख्या में लोगों को अच्छा Wi-Fi उपयोग करने को नहीं मिलता, ऐसे में यदि उन्हें अच्छा और मुफ्त वाई-फाई की सेवा मिले तो करीब 73% लोग अपनी निजी जानकारी साझा करने में कोई दिक्कत नहीं करेंगे। इस बात का खुलासा नॉर्टन की रिपोर्ट में हुआ है।  

Wi-Fi रिस्क रिपोर्ट में एंटीवायरस बनाने वाली सॉफ्टवेयर कंपनी नॉर्टन ने कहा है कि सर्वे में शामिल 51% भारतीयों ने माना की वाई-फाई एरिया में आने के बाद इंटरनेट से जुड़ने के लिए वे कुछ मिनट का इंतजार भी नहीं कर पाते हैं। अब सर्विसेज को चुनने में भी मुफ्त वाई-फाई एक बड़ा पैमाना बनता जा रहा है। करीब 82% लोग होटल चुनने, 67% ट्रांसपोर्ट सर्विस चुनने, 64% विमानन सेवा चुनने और 62% रेस्तरां इत्यादि चुनने में इस को तरजीह देते हैं।

वहीं 22% इस सेवा के लिए अपने निजी फोटो भी साझा करने को तैयार हैं करीब 19% लोगों का कहना है कि मुफ्त वाई-फाई के लिए वे अपने निजी ई-मेल और कॉन्टेक्ट को शेयर करने के लिए तैयार है। इस मामले में मजेदार बात ये रही कि करीब 74% लोगों का मानना है कि पब्लिक वाई-फाई सेर्विस का उपयोग करने के दौरान उनकी निजी जानकारी सुरक्षित रहती है।

Share This Post

Leave a Reply