पाक खुफिया एजेंसियों की कैद से रिहा हुए भारतीयों मौलवियों की हुई वतन वापसी

नई दिल्ली : पाकिस्तान में लापता हुए निजामुद्दीन दरगाह के मुख्य मौलवी और उनके भतीजे की वतन वापसी हो गई है। हजरत निजामुद्दीन दरगाह के मुख्य मौलाना आसिफ़ निज़ामी और नज़ीम निज़ामी पाकिस्तान में एयरपोर्ट से गायब हो गए थे। जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि उनको आईएसआई ने किडनैप कर लिया था। पाकिस्तानी मीडिया में भी इसी तरीके की खबरें आई थी।

लेकिन आज सुबह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जानकारी दी कि पाकिस्तानी खुफिया एंजेसी ने पूछताछ करने के बाद दोनों सूफी संतों को रिहा कर दिया है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आसिफ निजामी और नाजिम निजामी की रिहाई के लिए पहल की थी और पाकिस्तान के एनएसए सरताज अजीज से बात की थी।

आपको बता दें कि पाकिस्तानी मीडिया में ये भी कहा जा रहा था कि दोनों सूफी संतों के संबंध मुजाहिर कौमी मूबमेंट से हो सकते हैं। जिसके चलते उनसे खूफिया एंजेसियों ने पूछताछ की थी। दोनों मौलवी स्वदेश लौटकर हजरत निजामु्द्दीन दरगाह पहुंचे। यहां नाजिम निजामी ने बताया, ‘पाकिस्तान में उम्मत नामक एक अखबार ने हमें RAW का जासूस बताने वाली झूठी खबरें छापी थी। खबर के साथ ही हमारी फोटो भी प्रकाशित की गई थी।

Share This Post