Breaking News:

चुनाव से पहले ही भारत के संविधान को मिलने लगी चुनौती.. कांग्रेस के सलमान खुर्शीद ने कहा वो जो भाषा है दुर्दांत अपराधियो की

अभी देश में लोकसभा चुनाव चल रहा है. कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी तथा तमाम अन्य कांग्रेसी नेता संविधान व लोकतंत्र बचाने के कथित नारों के साथ चुनावी मैदान में हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हों या उनकी बहन व कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा, कपिल सिब्बल-पी. चिदम्बरम हों या रणदीप सुरजेवाला व सलमान खुर्शीद..चुनावी रैलियों, भाषणों में जनता से अपील कर रहे हैं कि संविधान बचाने के लिए, लोकतंत्र की रक्षा के लिए जनता पीएम मोदी व बीजेपी को हराये व कांग्रेस को वोट करे क्योंकि मोदी सरकार में संविधान खतरे में हैं.

आखिरकार अभिनंदन की जांबाजी पर फुफकार उठा PFI का मददगार जिन्ना भक्त हामिद अंसारी.. चुनावों में घोल गया कट्टरपंथी जहर

संविधान बचाने के नारे लगाने वाली कांग्रेस के नेता वास्तव में संविधान की कितनी इज्जत करते हैं, इसका बेहद ही खतरनाक उदाहरण पेश किया है कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने.. जिन्होंने चुनाव खत्म होने से पहले ही संविधान को चुनौती दी है. सलमान खुर्शीद ने संवैधानिक मूल्यों को चुनौती देते हुए उस भाषा का प्रयोग किया है, जो भाषा एक लोकतंत्र हितैषी नेता की नहीं बल्कि दुर्दांत अपराधी की कही जा सकती है. सलमान खुर्शीद ने कहा है कि वह सुप्रीम कोर्ट में FIR के टुकड़े कर देते हैं.

दुर्दांत आतंकी यासीन मलिक की गिरफ्तारी पर चीख उठी वो पार्टी जो इन चुनावों में मांग रही है भारत की सत्ता

बता दें कि सलमान खुर्शीद पर एफआईआर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादित बयान देने की वजह से हुई है. खुर्शीद ने एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए खुद को मुख्यमंत्री योगी पर शर्मनाक टिप्पणी की थी तथा कहा था कि वह योगी के आदित्यनाथ के बाप हैं. खुर्शीद के बयान पर विश्व हिंदू महासंघ के कार्यकर्ताओं ने फर्रुखाबाद कोतवाली सदर पुलिस को शिकायत दर्ज कराई थी. इसी FIR को लेकर खुर्शीद ने कहा कि बीजेपी डरी हुई है और एफआईआर करवा रही है. एफआईआर दर्ज करवाने वालों को मैं खुली चुनौती देता हूं कि प्रेस को बुलाकर एफआईआर की धज्जियां उड़ा देंगे. वो यही नहीं रूके व आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट के सामने मैं एफआईआर के टुकड़े किया करता हूं. सवाल ये है कि जो सलमान खुर्शीद सुप्रीम कोर्ट के सामने FIR की धज्जियां उड़ाने की बात करते हैं, वह संविधान कैसे बचाएंगे जबकि वह खुद संविधान का चीर हरण कर रहे हैं.

जल्लादों को भी मात दे गया हफीजुल.. बच्चे से कुकर्म किया तथा जब वो चीखा तो ईंटों से सांप के फन जैसा कुचल डाला उसे.. भारत में इराकी दरिंदगी

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW