ISIS के संदिग्धों के लिए प्रेम दिखाना भारी पड़ रहा राष्ट्र को.. श्रीनगर की जामिया मस्जिद में लहराया गया ISIS का झंडा

ISIS के संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद जहाँ NIA की प्रशंसा करने के बजाय उनके खिलाफ और आतंकियों के समर्थन में एक वर्ग को खड़ा होता देखा गया है वहीँ इसके गंभीर परिणाम भी अब खुल कर सामने आने शुरू हो गये है . तथाकथित बुद्धिजीवियों और स्वघोषित मानवाधिकार वालों से मिले मनोबल के बाद अब आतंक परस्तों के हौसले इतने बुलंद हो गये हैं कि उन्होंने खुल कर मस्जिदों में ISIS के झंडे दिखाने शुरू कर दिया हैं .

ताजा मामला है श्रीनगर का . आदित्य राज कौल द्वारा पोस्ट किये गये एक ट्विट के अनुसार यहाँ पर श्रीनगर की जामिया मस्जिद में कुछ मजहबी चरम्पन्थियो ने मस्जिद के अन्दर ही दुस्साहसिक रूप से एसआईएस के झंडे लहराये हैं . जुम्मे के दिन अर्थात गत शुक्रवार को राज्‍य की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्‍य में राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की ओर से जारी अलर्ट को मानने से इनकार कर दिया था जिसके कुप्रभाव अभी से देखने को मिल रहे हैं .क्योकि उनके इनकार के ठीक बाद यह घटना हुई है।

ध्यान देने योग्य है कि इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर शनिवार को वायरल हो रहा है। वायरल हो रहे इस वीडियो में साफ़ साफ नजर आ रहा है कि कुछ उन्मादी जामिया मस्जिद में हैंं और यहां पर वह खुलेआम सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती देते हुए झंडा लहरा रहे हैं। इस घटना ने एक बार फिर से घाटी में मौजूद आईएसआईएस के खतरे को सामने लाकर रख दिया है। घटना शुक्रवार रात की है जब आईएसआईएस के कुछ समर्थक श्रीनगर के नौहट्टा इलाके में मौजूद जामिया मस्जिद में दाखिल हो जाते हैं। उन्‍होंने यहां पर न सिर्फ आईएसआईएस के झंडे लहराए बल्कि भारत के विरोध में और पाकिस्तान के समर्थन में जोर शोर से नारे भी लगाए हैं . इस घटना पर NIA का विरोध कर रहे तमाम बुद्धिजीवी खामोश हैं .

Share This Post