तोते की तरह सारे राज NIA के आगे, उगल रहा है वो ज़हूर जो आतंकियों से कहता था कि शेर जैसे लड़ो…

घाटी में टेरर फंडिंग के मामले में गुरूवार को गिरफ्तार किए गये श्रीनगर के कारोबारी और कट्टरपंथी हुर्रियत नेता सैय्यद अली शाह गिलानी के नजदीकी जहूर अहमद वटाली से सुरक्षा एजेंसियों के चैकानें वाली जानकारियां मिली हैं। वटाली पर आरोप है कि उसने जम्मू कश्मीर में आतंकियो अलगाववादियों और पत्थरबाजों को फंड्स उपलब्ध कराये। यह भी शक है कि वटाली के कश्मीर घाटी के अलगावादी नेताओं के अलावा सीमा पर खुफिया एजेंसी के अधिकारियों सैन्य अफसरों और कई राजनेताओं तक से रिश्ते है।

एनआइए की जांच से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि गिलानी के दामाद अल्ताफ फंतोश के अलावा उनके करीबी जावेद अहमद ने बताया कि एयाज अकबर व राजा कलवाल के घरों की तलाशी में कई ऐसे दस्तावेज मिले हैं जो अलगाववादी नेता के खिलाफ जाते हैं। इन लोगों ने पूछताछ में बताया कि कश्मीर बनेगा पाकिस्तान का नारा देने वाले गिलानी के विशेष आग्रह पर ही कुछ खास लोगों के साथ पैसे का लेन-देन किया गया है। इन अलगाववादियों से जब्त किए गए पेन ड्राइव लैपटॉप और स्मार्टफोन की भी जांच जारी है।
उन्होंने बताया कि गिलानी से पूछताछ में पूछे जाने वाले सवालों को तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा उनके खिलाफ पहले से दर्ज मामलों पर अब तक हुई कार्रवाई को भी देखा जा रहा है। गिलानी से पूछताछ के दौरान उन लोगों को भी सामने बैठाया जाएगा, जिन्होंने अपने गोरखधंधे में गिलानी का नाम लेते हुए कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पूछताछ के दौरान एक न्यायिक अधिकारी को भी मौजूद रखने और पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करने पर विचार किया जा रहा है ताकि बाद में वह किसी भी मुद्दे पर न मुकरें और न उनका अनावश्यक राजनीतिककरण करें।
गौरतलब है कि अलगाववादी नईम अहमद खान ने एक स्टिंग में खुलासा किया था कि वादी में आतंकी हिसा और अफरा-तफरी फैलाने के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी और लश्कर सरगना हाफिज सईद कश्मीरी अलगाववादियों को हवाला के जरिए पैसा भेजते हैं। इस गोरखधंधे में कई व्यापारी भी शामिल हैं। नईम खान के स्टिंग के आधार पर एनआइए ने श्रीनगर व जम्मू के अलावा कई राज्यों में अलगाववादियों व व्यापारियों के घरों में छापे मार करोड़ों रुपये की संपत्ति के अलावा कई आपत्तिजनक दस्तावेज भी बरामद किए हैं। दूसरी ओर ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी गुट के चेयरमैन सैयद अली शाह गिलानी ने मंगलवार को एनआइए के छापों की निंदा करते हुए कहा कि आम कश्मीरी इन छापों का मकसद समझता है।
Share This Post

Leave a Reply