पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ और स्वतंत्रता का है पूरा अधिकार, फिर क्यों सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक पर की गई कार्रवाई…

नई दिल्ली : सुदर्शन न्यूज पर कार्रवाई से तो साफ जाहिर है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता पर हमला किया जा रहा है, क्योंकि सुदर्शन के प्रधान संपादक ने कहा था कि वो एक पत्रकार की हैसियत से संभल जाएंगे।

जबकि संसद में राज्यसभा के सासंद ने संभल मामले को ऐसे पेश किया, जैसे सुरेश चव्हाणके जी अपने साथ हिंदुओं की सेना लेकर जा रहे हैं। जबकि हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी कहा था कि पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है और उसे स्वतंत्रता का पूरा अधिकार है। तो फिर क्यों सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक पर ये कार्रवाई की गई।

Share This Post