क्षत्रियों के अपमान पर कांग्रेस में बवाल.. सिंधिया ने शशि थरूर को सीमा में रह कर बोलने की नसीहत दी


पद्मावती फिल्म का विरोध समाज में हर वर्ग और हर रूप में हो रहा है. लोगो का रोष थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिसके चलते पद्मावती फिल्म की रिलीज़ डेट भी आआगे बड़ा दी गयी है. इस विरोध पर दीपिका पादुकोण ने भी ब्यान में साफ़ कहा कि इस फिल्म को रिलीज़ होने से कोई नहीं रोक सकता। जिसके बाद लोगो और आक्रोशित हो गए. फिल्म में अधूरे इतिहास का प्रदर्शन करने पर और इसे तोड़ मरोड़ कर पेश करने पर भाजपा के कई नेता ने इसका विरोध में बयान भी दिया. जिसके बाद हमेशा की तरह हिन्दू इतिहास और हिन्दू की उसके प्रति भाव का मजाक उड़ने के लिए कांग्रेस के नेता शशि थरूर ने बयान जारी किया.

जिसका विरोध में खुद कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बयाना दिया और कहा कि थरूर को पहले राजाओं के इतिहास के बारे में पूरा ज्ञान हासिल करना चाहिए।

कांग्रेस के नेता शशि थरूर के ब्यान पर उन्हीं की पार्टी के नेता सिंधिया ने अपने सिंधिया होने पर गर्व जताया और कहा कि ,”मुझे अपने अतीत के बारे में पूरी जानकारी है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि,” . उन्हें पहले ज्ञान हासिल करके ही कोई बात करनी चाहिए। वहीँ इसके अलावा पद्मावती के विरोध पर थरूर ने यह भी कहा था कि, “कुछ कथित महाराज एक फिल्मकार के पीछे पड़े हैं लेकिन, यह उस वक्त भाग खड़े हुए थे.

जब अंग्रेजों ने उनके मान सम्मान का दमन किया था। थरूर जब अपने बयान पर घिरे तो उन्होंने कहा कि भाजपा समर्थित लोगों ने मेरे बयान का दुष्प्रचार किया है।

बता दें कि थरूर ने बयान में कहा था कि पुरानी महारानियों पर लडऩा छोडक़र महिलाओं की घूंघट प्रथा को खत्म करनी चाहिए और उनके शिक्षा के स्तर को बढ़ाना चाहिए। आपको यह भी बता दें कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य कांग्रेस के दिवंगत नेता माधराव सिंधिया के बेटे हैं और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के भतीजे हैं। 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...