Breaking News:

फिर से मोहम्मद गोरी ने छला पृथ्वीराज को.. सामने से न लड़ पाए तो कमलेश तिवारी को मारने के लिए पहने भगवा वस्त्र


पूरे जोर शोर से हिन्दू हित की आवाज उठाने वाले नेता हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की ह्त्या के बाद देश का माहौल गरमाया हुआ है. लोग अपने अपने तरीके से इस जघन्य हत्याकांड पर अपना रोष प्रकट कर रहे हैं लेकिन जिस तरह से कमलेश तिवारी की ह्त्या की गई, वो हतप्रभ करने वाला है. कमलेश तिवारी की ह्त्या के बाद आज चक्रवर्ती सम्राट पृथ्वीराज चौहान याद आ रहे हैं.

कमलेश तिवारी को मजहबी उन्मादियों ने उसी तरह छल करके मारा है, जिस तरह से मुग़ल आक्रान्ता मोहम्मद गोरी ने पृथ्वीराज चौहान के साथ साथ छल किया था. पृथवीराज चौहान ने मुग़ल आक्रान्ता मोहम्मद गोरी को १७ बार युद्ध में हराया था, उसे बंदी बनाया था लेज्किन हिन्दू धर्म की मानवीयता का मान रखते हुए वह उसे माफ़ कर रिहा कर देते थे. जब गोरी पृथवीराज को सीधे नहीं हरा सका तो उसने छल के साथ पृथवीराज चौहान को बंदी बनाया. उसके बाद क्या हुआ वो हम सभी जानते हैं.

मजहबी उन्मादी हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी से सीधे नहीं लड़ सके तो उन्हें मारने के लिए भगवा वस्त्र पहिन लिये. उन्मादियों ने कमलेश तिवारी को मारने के लिए वही तरीका अपनाया जो पृथवीराज के खिलाफ मोहम्मद गोरी ने अपनाया था. गोरी जब पृथवीराज को सीधे युद्ध में हरा नहीं सका तो उसने भी छल का सहारा लिया, ठीक उसी तरह से मजहबी उन्मादी तत्व जब कमलेश तिवारी से सामने नहीं लड़ पाए तो उनके खिलाफ भी छल का सहारा लिया गया.

मजहबी उन्मादियों ने कमलेश तिवारी से सामने से लड़ने के बजाय नकली भाईचारे की बात की. दीपावली की मिठाई देने के बहाने से उनसे मिलने का समय माँगा. यही नहीं उन्मादियों ने इसके लिए भगवा वस्त्र पहने क्योंकि वो जानते थे कि कमलेश तिवारी भगवा पहिनते हैं, भगवा पसंद हैं. वो जानते थे कि अगर भगवा पहिनकर जायेंगे तो कमलेश तिवारी को गुमराह किया जा सकता है. और उन्होंने वही किया तथा 18 अक्टूबर को बिल्कुल मोहम्मद गोरी के अंदाज में कमलेश तिवारी के साथ छल कर उनकी जान ले ली.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share