कश्मीरी आतंकी का बयान, हर उस इंसान का क़त्ल करने में साथ दें भारत के मुसलमान जो है, ‘काफिर’

नई दिल्‍ली : दोगला पाकिस्तान ने अब अपनी अगली चाल चल दी है। एक तरफ जहां जेडीएम साहब ने भारत से शांति बनाये रखने के लिए गुजारिश की है। तो वहीं, दूसरी तरफ आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के पूर्व कमांडर और अब अलकायदा के आतंकी जाकिर मूसा भारत के खिलाफ भारतीय मुस्लिम युवकों को उकसाने का काम कर रहा है। चिट भी अपनी और पट भी अपनी रखने की कोशिशों में लगा हुआ है ये दोगला पाकिस्तान। 
आपको बता दें कि पाकिस्तान अपनी आतंकी संगठन को बढ़ाने के लिए भारत के खिलाफ भारत के ही युवाओं को बहलाने-फुसलाने की हर मुमकिन कोशिश कर रहा हैं। युवाओं को जिहाद के नाम पर आंतकी बनने की नापाक सलाह दे रहा हैं। खासकर मुस्लिम युवकों को वे जिहाद के नाम पर हथियार उठाने के लिए उकसाते हैं। जब प्यार से बात नहीं बनी तो पाकिस्तान के आतंकी संगठन ने अब युवाओं को सोशल मीडिया के जरिए भी भटकाने की कोशिशों को तेजी से बढ़ावा दिया है। 
सूत्रों के मुताबिक, जाकिर मूसा का मानना है कि भारत के मुसलमान दुनिया के सबसे बेशर्म मुसलमान हैं। दरअसल, मूसा ने सोमवार को एक ऑडियो रिकॉर्डिंग जारी कर भारतीय मुस्लिम युवाओ के लिए अपना संदेश दिया है। ऑडियो में मूसा ने गजवा-ए-हिंद के लिए जिहाद में शामिल नहीं होने पर भारतीय मुसलमानों की निंदा की है। इसके साथ ही मूसा ने टेलिग्राम और वॉट्सऐप ग्रुप पर अपनी ऑडियो क्लिप शेयर की है।
ऑडियो में मूसा कहता है कि उसकी लड़ाई सिर्फ कश्मीर तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह तो इस्लाम और काफिरों के बीच की लड़ाई है। भारतीय मुसलमानों को भड़काने के लिए उसने देश में मुस्लिमों के साथ हो रही हिन्दू मुस्लिम की घटनाओं का सहारा लिया है। उसने ऑडियो क्लिप में बिजनोर जाने वाली चलती ट्रेन में एक मुस्लिम महिला के साथ पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा रेप, गोरक्षकों द्वारा मुस्लिमों को पीट-पीट कर मारे जाने का हवाला देते हुए मुस्लिम युवकों को बरगलाने की भी कोशिश की है। 
वहीं, भारतीय मुस्लिमों के खिलाफ अपनी ऑडियो में जहर उगलते हुए मूसा कह रहा है, कि ‘वे लोग दुनिया के सबसे बेशर्म मुस्लिम हैं। जो खुद को मुस्लिम कहते है। मुझे तो उन्हें मुस्लिम कहने में भी  शर्म आती है। हमारी बहनों को हिन्दू के लड़के बेइज्जत किया जाता है और भारतीय मुस्लिम चीख-चीखकर कह रहे हैं कि इस्लाम शांतिप्रिय धर्म है।’ मूसा ने ऐतिहासिक इस्लामी युद्ध ‘जंग-ए-बदर’ का हवाला दिया है। उसने कहा, ‘वे लोग 313 थे और दुनिया पर राज किया। अब हम करोड़ों हैं लेकिन गुलाम हैं।
Share This Post