30 साल बाद 300 कश्मीरी हिन्दू वहां करेंगे पूजा जो थी उनकी जमीन और कब्जा कर लिया था मजहबी उन्मादियों ने

वो पल कश्मीरी उन 300 कश्मीरी हिन्दुओं के लिए सबसे खुशनुमा पल होगा जब वो कश्मीर जाकर उस जगह पूजा करेंगे, जहाँ 30 साल पहले तक रहते थे. लेकिन 30 साल पहले कश्मीरी हिन्दुओं के साथ वो हुआ, जिसकी कल्पना करने मात्र से ही रूह कांप उठती है. लगभग 30 साल पहले इस्लामिक चरमपंथियों द्वारा बेरहमी के साथ कश्मीर में हिन्दुओं का क़त्ल किया गया, उनकी बहन-बेटियों के साथ बलात्कार किया गया, जो बच गये उनको कश्मीर छोड़ना पड़ा. कश्मीरी हिन्दुओं की ये पीड़ा, ये दर्द, उनकी चीखें आज भी रौंगटे खड़े कर देती हैं.

शहरों और बड़ी बिल्डिंगों में भी फ़ैल रहा संघ.. अब करोड़पति भी सुबह देखेंगे भगवा ध्वज प्रणाम में “नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे” के गीत गाते हुए

आपको बता दें कि इस घटना के लगभग 30 साल बाद घाटी छोड़ चुके करीबी 300 कश्मीरी हिन्दुओं को एक बार फिर अपनी मिट्टी से जुड़ने का मौका मिला है. जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने श्रीनगर के पास क्षीर भवानी मां के दर्शन के लिए इन लोगों को न्योता दिया है. यात्रा पर जा रहे कुछ के लिए यह किसी सपने के सच होने जैसा है, वहीं कुछ इसे घर वापसी के प्रयास के पहले कदम के तौर पर देख रहे हैं. करीब 30 साल पहले कश्मीर से विस्थापित हुईं दीपिका भान भावुक होकर कहती हैं कि फिलहाल अभी यह हमारी घर वापसी नहीं हो, लेकिन हमारे लिए उम्मीद की किरण है.

बदजुबान आज़म खान के जिले रामपुर में तैनात हुआ UP पुलिस का एनकाऊंटर स्पेशलिस्ट IPS अजय पाल शर्मा

दीपिका आगे कहती हैं कि मां क्षीर भवानी का दर्शन करना बेहद खुशी का पल है तथा उम्मीद है कि इससे उनके जैसे तमाम कश्मीरी हिन्दुओं की जो घर वापसी उम्मीद जगी है वो भी पूरी होगी. यात्रा पर जा रहे निजी विश्वविद्यालय में सहायक रजिस्ट्रार 58 वर्षीय दीपक कौल और उनकी पत्नी भारती कौल के लिए यह सपना सच होने जैसा है, जिसे वे कश्मीर से विस्थापित होते समय भुला आए थे. भारती कौल के मुताबिक यह कुछ दिन की यात्रा उन्हें घर वापसी के कम नहीं लग रही है.

8 जून: बलिदान दिवस बंदा बैरागी.. सनातन के वो महानतम योद्धा जिनके बेटे को मार कर कलेजा मुँह में ठूस दिया, फिर हाथी से कुचलवा डाला.. लेकिन नहीं बने “मुसलमान”

इस बात की जानकारी मिलने पर कश्मीर एजूकेशन कल्चर एंड साइंस सोसायटी के समन्वयक सतीश महलदार ने कहा कि यह कोशिश कोशिश घर वापसी के आगाज का पहला कदम हो सकती है, क्योंकि बड़ी संख्या में स्थानीय लोग भी उनके स्वागत के इंतजार में हैं. जम्मू-कश्मीर भवन से जत्था 10 जून को होने वाले माता खीर भवानी के ज्येष्ठ अष्टमी पूजन के लिए रवाना होगा. यात्रियों का खर्च और सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्यपाल उठाएंगे. करीब सप्ताह भर की यात्रा में यह लोग राज्यपाल के खास मेहमान होंगे. इस  यात्रा में  सभी मेहमानों की खीर भवानी के अलावा हरि पर्वत श्रीनगर, शंकराचार्य मंदिर होते हुए  13 जून को दिल्ली वापसी होगी.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं-

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW