Breaking News:

केजरीवाल ने बताया कैसे की जाती है ईवीएम से छेड़छाड़, गिनाएं 10 तरीके

नई दिल्ली : ईवीएम से छेड़छाड़ के अपने पुराने आरोप को एक बार फिर से अरविंद केजरीवाल ने दोहराया है। शुक्रवार को दिल्ली चुनाव आयुक्त से मिलकर ईवीएम को एमसीडी चुनाव में इस्तेमाल नहीं करने की गुहार लगाई है। केजरीवाल ने कहा कि ईवीएम से छेड़छाड़ करने के कई तरीके हैं।

मैं आईआईटी से इंजीनियर हूं, मैं आपको 10 तरीके बता सकता हूं कि कैसे ईवीएम से छेड़छाड़ कर सकते हैं। केजरीवाल ने कहा कि निर्वाचन आयोग इसे जानबूझकर कर रहा है। वे आरोपों से क्यों पल्ला झाड़ रहे हैं? आयोग बीजेपी को जीत दिलाने के सभी प्रयास कर रहा है। केजरीवाल ने सबूत होने का भी दावा किया। केजरीवाल ने कहा कि ‘दो अलग-अलग कंपनियों द्वारा बनाई गई चिप्स को एक बग या एक तरह का वायरस के जरिए चिप्स में डाला जा सकता है।

अब मैं देख रहा हूं कि किस प्रकार के ईवीएम वे इस्तेमाल कर रहे हैं। वे कबाड़खाने से ईवीएम को वापस ला रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में नगर निगम चुनाव बैलेट पेपर से कराए जाने की मांग की थी, लेकिन समय की कमी को देखते हुए अरविंद केजरीवाल ने अब बैलट पेपर की वजह निगम चुनाव वीवीपैट वाली नई ईवीएम मशीनों से कराने की मांग की है।

वहीं, आम आदमी पार्टी के नेताओं की मुलाकात के बाद अरविंद केजरीवाल खुद दिल्ली चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचे जहां उन्होंने मुख्य चुनाव अधिकारी से मुलाकात कर चुनाव को कुछ दिन के लिए डालने की मांग कि जब तक कि राज्य चुनाव आयोग नई ईवीएम मशीनों का बंदोबस्त नहीं कर ले।

अरविंद केजरीवाल कहा कि साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वीवीपैट के साथ ईवीएम के माध्यम से चुनाव कराना ज्यादा विश्वसनीय है, इसके अलावा हाल ही में यूपी चुनाव आयोग ने केंद्रीय चुनाव आयोग को पत्र लिखकर ये कहा है कि वो उत्तर प्रदेश में जेनरेशन 1 की पुरानी मशीनों से चुनाव नहीं कराना चाहते क्योंकि वो मशीनें ख़राब हैं और उन्हें पेपर बैलेट से वहां के लोकल और सिविक चुनाव कराने की इज़ाज़त दी जाएं।

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW