Breaking News:

मानहानि का केस केजरीवाल का, जेठमलानी की फीस जनता से, जानें क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली : जनता के पैसों का इस्तेमाल कैसे कितना और किस जगह करना चाहिए, ये तो कोई सीएम केजरीवाल से पूछे। जी हां जहां जनता सरकार को टैक्स समाज की भलाई और अपने बेहतर भविष्य के लिए भरती है तो वहीं, केजरीवाल वो पैसा खुद के लिए इस्तेमाल करना चाहते हैं।

आपको बता दें कि डीडीसीए मामले में वित्तमंत्री अरुण जेटली पर आरोप लगाने के बाद मानहानि का सामना कर रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चाहते हैं कि इस केस में अब तक जो राशि करीब 3 करोड़ रुपए हो चुकी है उसे करदाताओं के पैसे से चुकाया जाए। मानहानि केस में केजरीवाल की तरफ से मशहूर वकील रामजेठमलानी पैरवी कर रहे हैं।

इस केस में रामजेठमलानी ने कथित तौर पर रिटेनरशिप के रूप में एक करोड़ रुपये का बिल और कोर्ट में हर पेशी के लिए 22 लाख रुपये का बिल भेजा है। सिसोदिया ने ये बिल लेटर के साथ मंजूरी के लिए उपराज्यपाल को भेजा है और लिखा है कि इसके लिए सीएम ऑफिस ने गुहार लगाई है और ये सीएम के एडमिन्स्ट्रेटिव डिपार्टमेंट की देखरेख में किया जाएगा।

वहीं, बीजेपी ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि कि दिल्ली के मुख्यमंत्री मानहानि केस का कानूनी खर्चा सरकारी खजाने में से चुकाना चाहते हैं। इतना ही नहीं बीजेपी का कहना है कि वो अपने वकील रामजेठमलानी को भी सरकारी खजाने से फीस दे रहे हैं और सरकारी खजाना खाली कर रहे हैं। गौरतलब है कि केजरीवाल समेत आप के 6 नेताओं पर अरुण जेटली ने मानहानि का मुकदमा दर्ज किया था। 

Share This Post