एक नये बड़े सेकुलर हिन्दू का उदय.. “क़ुरान को बताया भाईचारे, शांति, करुणा, सहिष्णुता के साथ वैज्ञानिकता का बेजोड़ उदहारण”


एक नया नाम और नया चेहरा जिनके नाम से ये एहसास होता है की ये हिन्दू हैं .. इन्होने भारत के उन तमाम बड़े नेताओ और बुध्दिजीवियो की राह पर चलते हुए अपने उस नये रूप को सामने रखा है जो सेकुलरों का प्रतिनिधित्व करने की क्षमता साफ़ साफ दिखाता है .. इनकी धर्मनिरपेक्षता की सबसे बड़ी विशेषता ये है की ये अपने धर्म से ज्यादा जानकारी दूसरे मत मजहब के बारे में रखते हैं और सार्वजानिक रूप से बाकायदा उस पर प्रकाश भी डालते हैं .. 

इनका नाम है रजत मल्होत्रा जो भारत के एक नए सेक्युलर चेहरे के रूप में तेजी से उभर रहे हैं . इनका इस्लाम पर अध्ययन देखते ही बनता है हांलाकि ये हिंदुत्व यानी अपने मूल धर्म पर कितना ज्ञान रखते हैं ये अभी तक निकल कर सामने नहीं आया है पर क़ुरान पर अपनी लम्बी चौड़ी स्पीच के बाद इनका वीडियो तमाम मुस्लिमों के न सिर्फ न्यूज पोर्टल पर बल्कि फेसबुक , ट्विटर, व्हाट्सएप और अन्य माध्यमो में तेजी से वायरल हो रहा है और कई लोग इनको भाईचारे का नया प्रतीक बता रहे हैं . 

सेंटर फॉर पीस एंड स्पिरिचुअलिटी (CPS) इंटरनेशनल के डॉ रजत मल्होत्रा ने क़ुरआन के बारे में सबसे गलत धारणाओं में से एक पर चर्चा की।  यह कहते हुए कि क़ुरआन के बारे में आम धारणा यह है कि यह केवल मुसलमानों के लिए एक किताब है, वह दावा करते हैं कि क़ुरआन वास्तव में, पूरी मानव जाति के लिए एक किताब है। अपनी बात को सही साबित करने के लिए उन्होंने बाकायदा कई जगहों पर उसकी आयतों का हवाला भी दिया.

इनके बयानों के बाद इनका वीडियो मुस्लिम न्यूज पोर्टलों पर वायरल हो गया .. डॉ रजत का मानना है कि क़ुरआन भाईचारे, शांति, करुणा, सहिष्णुता आदि जैसे कई विषयों को शामिल करता है, उदाहरणों का हवाला देते हुए, उन्होंने दावा किया कि कुरान सामाजिक, वैज्ञानिक और आध्यात्मिक मुद्दों को भी संबोधित करता है। फ़िलहाल भारत के सेक्युलर जगत में एक नये नाम के   शामिल होने के बाद उनकी विचारधारा वालों में   ख़ुशी दिखाई दे रही है . इनकी फोटो मौलाना वहिद्दुद्दीन खान तक शेयर करते दिखाई दे जाते हैं . 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...