अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा में लगाया गया था कश्मीर पुलिस का जवान तारिक अहमद.. लेकिन उसने किया ये कुकृत्य

उसको सब देशभक्त और सभी धर्मों का सम्मान करने वाला पुलिस वाला समझते थे .. उसके शरीर पर वर्दी थी जिसको सम्मान देना हर देशभक्त अपना कर्तव्य समझता था .. लेकिन उसने जो कुछ भी किया उसके बाद वर्दी पर तो नहीं लेकिन एक निकृष्ट सोच पर सवाल जरूर उठने लगे हैं .. तारिक अहमद भी निकला उन तमाम न्रिकिष्ट सोच वालों में से एक जिन्होंने वर्तमान समय में समाज के माहौल को दूषित जैसा कर रखा है और कहना गलत नहीं होगा कि महादेव की यात्रा में छिपा निकला एक दानव ..

ज्ञात हो कि भले ही मोदी सरकार तमाम प्रयासों से प्रयास के साथ विश्वास जीतने की कोशिश कर रही हो लेकिन आये दिन कहीं न कहीं से कोई न कोई ऎसी खबर आ ही जा रही है जो उनके प्रयासों को धक्का लगा रही है .. ध्यान देने योग्य है कि बाहरी राज्यों और दुनिया के कोने कोने से पवित्र अमरनाथ यात्रा के लिए आई महिलाओं का अस्थायी शिविर में बनाए गए बाथरूम में नहाते समय मोबाइल फोन पर वीडियो बना रहे एक पुलिस कांस्टेबल को लोगों ने दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया गया..

आरोपी सिपाही की पहिचान कश्मीर के रहने वाले तारिक अहमद के रूप में हुई है .. ये आरोपी फिलहाल इंडियन रिजर्व पुलिस बल की 19वीं बटालियन में तैनात है। इस दौरान उसे विशेष ड्यूटी पर शिव मार्केट में यात्रियों के लिए बने अस्थायी शिविर के बाहर सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था। आरोपित कांस्टेबल के मोबाइल फोन को जब्त कर उसके विरुद्ध त्रिकुटा नगर पुलिस थाने में मामले को दर्ज कर लिया गया। यह घटना बुधवार दोपहर की है। रेलवे स्टेशन के बाहर शिव मंदिर में महिला यात्रियों के लिए बाथरूम बनाए गए हैं।

इस कांस्टेबल तारिक पर आरोप है कि इस दौरान वहां नहा रही महिलाओं का तारिक अहमद ने अपने मोबाइल फोन वीडियो बनाना शुरू कर दिया। महिलाओं की नजर बाथरूम में रोशनी के लिए बनाए गए स्थान पर पड़ी तो उन्हें कुछ संदेह हुआ। अंदर से कुछ महिलाएं निकलीं और उन्होंने पुलिस कांस्टेबल को वीडियो बनाते हुए पाया। महिला के शोर मचाने पर स्थानीय दुकानदार वहां एकत्रित हो गए, जिसके बाद आरोपित को मौके पर ही दबोच लिया गया और पुलिस के हवाले कर दिया गया।

Share This Post