कुछ ऐसी कटी चिदम्बरम की पहली रात जेल में.. वो चिदम्बरम जो गुनाहगार हैं भगवा आतंकवाद के नाम पर बर्बाद कर दिए गये हिन्दुओ के भी

ये कभी हुआ करते थे सरकार के बेताज बादशाह.. इन्होने हर उस पर जुल्म ढाया था जो उस समय कांग्रेस सरकार द्वारा चलाई गई भगवा आतंकवाद की आंधी में लपेटे में आ गये . ये वही हैं जो जो आतंकी इशरत के लिए गुजरात पुलिस के जांबाजो की बलि चढाने में भी आगे थे जिसके बाद पूरे भारत भर में पुलिस का मनोबल गिरा हुआ था …इसके साथ इन्होने आर्थिक रूप से भी इतने अपराध किये थे ये किसी को पता भी नहीं था जो अब मोदी सरकार में सामने आना शुरू हुआ है .

इनके साथ इनके बेटे कीर्ति चिदंबरम भी शामिल थे. करोड़पति से भी बढ़ कर जो कुछ भी हो सकता था वो चिदंबरम और उनके बेटे बन चुके थे और हैरानी की बात ये है कि पिछली सरकार में ये गरीबो का मुद्दा उठा रहे थे.. फिलहाल अब वही चिदंबरम जेल की सलाखों के पीछे हैं और कानून सबसे बड़ा है इस बात का संदेश दे रहे हैं समाज को .. चिदंबरम का जेल जाना मोदी की कथनी करनी में समानता का सबसे बड़ा परिचयक बन चुका है जिसके बाद आम जनता का कानून में विश्वास बढ़ा है .

चिदम्बरम के समर्थन में जमीनी स्तर पर भी किसी का न उतरना ये साबित करता है कि उनके खिलाफ ED की इस कार्यवाही का आम जनमानस में भी व्यापक समर्थन है.. चिदंबरम को उच्च सुरक्षा के बीच राउज एवेन्यू कोर्ट से एशिया की सबसे बड़ी जेल में लाया गया.चिदंबरम दिल्ली स्थित तिहाड़ के जेल नंबर 7, वार्ड नंबर 2 और सेल नंबर 15 में 19 सितंबर रहेंगे. जेल अधिकारियों के अनुसार उन्हें एक अलग कोठरी और पश्चिमी शैली के एक शौचालय के अलावा कोई विशेष सुविधा नहीं मिली है ..

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की पहली रात बेचैनी में गुजरी. वह आम कैदियों की तरह ज़मीन पर ही सोए. सोने से पहले उन्होंने दवाई खाई. उनको सोने के लिए चादर और तकिया दिया गया. चिदंबरम को जेल नम्बर 7 की वार्ड नंबर 2 के 15 नंबर सेल में रखा गया है. 7 नंबर जेल में दो तरह के सेल है एक सेल में 1 कैदी रहता है जबकि दूसरे सेल में 3 कैदी. 7 नंबर जेल में ही रतुल पुरी समेत क्रिस्टियन मिशेल भी रहा है.चिदंबरम ने सुबह चाय और बिस्कुट खाए है. उनसे अधिकतम 10 लोग हफ्ते में 2 बार सुबह 8 बजे से 1:30 बजे तक मिल सकते है. खाने में उन्हें रोटी सब्ज़ी, दाल चावल दिए जाएंगे.

Share This Post