कैसे फैसला होगा श्रीराम के मन्दिर का ये फैसला आया सुप्रीम कोर्ट में. जस्टिस खालिफुल्लाह भी होंगे निर्णायक

यद्दपि अभी अंतिम फैसला बाकी है लेकिन फिलहाल ये कहना गलत नहीं होगा कि श्रीराम मन्दिर के अंतिम समाधान की तरफ एक कदम और आगे बढ़ गया है . सुप्रीम कोर्ट में हुई एक लम्बी सुनवाई के बाद आख़िरकार ये फैसला हो ही गया है कि श्रीराम मदिर के मामले में फैसला किस प्रारूप में आएगा . अब जो मध्यस्थो की टीम बन रही है उस टीम में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस खालिफुल्लाह भी शामिल होंगे जो साध्वी प्रज्ञा मामले में भी सुनवाई कर चुके हैं .

विदित हो कि अब श्रीराम मन्दिर पर अंतिम फैसला मध्यस्थता के माध्यम से ही आयेगा . इस मामले में अब तक ३ मध्यस्थ बनाए गये हैं जिनके साथ दोनों पक्षों को मिल कर किसी अंतिम निष्कर्ष पर आना होगा . इन तीन मध्यस्थ लोगों की टीम को भी बाकायदा गठित कर दिया गया है . कल ही इस मामले पर एक लम्बी सुनवाई हुई थी . इस मामले में सबसे ख़ास बात ये रही थी कि सुप्रीम कोर्ट ने खुद माना था कि ये मुद्दा हिन्दुओ की आस्था से जुड़ा है .

ज्ञात हो कि हिन्दू महासभा के स्वामी चक्रपाणि की तरफ से मध्यस्थो के नाम दिए गये थे और आखिरकार उस पर आगे बढ़ते ही सुप्रीम कोर्ट ने ये कह दिया कि ये फैसला मध्यस्थता के माध्यम से ही आएगा . यद्दपि इस मामले में बाबरी पक्ष हमेशा से ही बातचीत से भागता रहा है और इस से पहले भी हाईकोर्ट पर ही मामले को रोक देने का बयान देने के बाद वो अपने बयान से पलट गया था और मामले को ले कर सुप्रीम कोर्ट तक पहुच गया था .

Share This Post