Breaking News:

जिस राशिद को पढ़ाया जा रहा था भारत के पैसे से, उसमें दिल धड़कता मिला पाकिस्तानी… वो गद्दार निकला राष्ट्र का


कश्मीरी छात्र कैशर राशिद.. जिसे हिंदुस्तान की जनता की खून पसीने से कमाई के पैसे से पढ़ाया जा रहा था, उसे हर सुविधा दी जा रही थी. देश को संभवतः उम्मीद थी कि कैशर राशिद पढ़ेगा, आगे बढेगा तथा देश का नाम रोशन करेगा. लेकिन देश की ये उम्मीदें पूरी तरह से गलत थी क्योंकि कैशर राशिद के शरीर में हिंदुस्तान नहीं बल्कि पाकिस्तान का दिल धड़कता था. ये बात उस समय मालूम पढ़ी जब पुलवामा में इस्लामिक आतंकी हमले में सुरक्षा बलों के 40 से ज्यादा जवान अमरता को प्राप्त हो गये. इसके बाद जब पूरा देश शोक में डूब गया तो उस समय कैशर राशिद मुस्कुराने लगा तथा जवानों के बलिदान का जश्न मनाने लगा.

आपको बता दें कि कैशर राशिद देवभूमि उत्तराखंड की राजधानी देहरादून की नंदा की चौकी क्षेत्र में स्थित श्रीदेव सुमन सुभारती मेडिकल विश्वविद्यालय में पढ़ाई करता है. कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर आतंकी हमले के बाद जब पूरा देश आक्रोशित था  तब राशिद ने फेसबुक पर अमर बलिदानियों के खिलाफ तथा आतंकी व पाकिस्तान के समर्थन में बेहद ही आपत्तिजनक टिप्पणियाँ की. फेसबुक पर की गई इस टिप्पणी के सामने आने के बाद लोगों में गुस्सा भड़क उठा और बजरंग दल समेत तमाम संगठनों ने मेडिकल कॉलेज पहुंचकर हंगामा किया.

इसके बाद श्रीदेव सुमन सुभारती मेडिकल विश्वविद्यालय प्रशासन ने कैशर राशिद को निलंबित करने के साथ ही उसके प्रवेश पर रोक लगा दी है तथा उससे फेसबुक पर की गई टिप्पणी को लेकर एक सप्ताह के भीतर जवाब भी मांगा गया है. बता दें कि जवानों पर आतंकी हमले की खुशी मनाते हुए कश्मीरी मूल के छात्र कैशर राशिद ने अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया था कि ‘हैप्पी टु डे आज तो चिकन डिनर हो गया’. मामला संज्ञान में आते ही सुभारती विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ. श्रीराम गुप्ता ने राशिद का तत्काल निलंबित कर कर दिया. गुप्ता ने कहा कि राशिद की पोस्ट गैर जिम्मेदाराना और वैमनस्य फैलाने वाली है. उसके कॉलेज में आने पर ही रोक लगा दी गई है. उसे एक सप्ताह के अंदर खुद कॉलेज में उपस्थित होकर या मेल पर जवाब मांगा गया है. यदि तय समय में नोटिस का जवाब नहीं आया तो उसे कॉलेज से निष्कासित किया जाएगा


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share