Breaking News:

सैल्यूट कीजिये उन दो जांबाज महिलाओं को जिन्होंने सिख नरसंहार के आरोपी कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दिलवाई सजा

वो 31 अक्टूबर 1984 का दिन था जब हिंदुस्तान की तत्कालीन प्रधानमन्त्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी की ह्त्या उन्हीं के दो बॉडीगार्ड्स ने कर दी. इंदिरा गांधी की ह्त्या की खबर मिलते ही देश ही नहीं बल्कि दुनिया सन्न रह गई. इसके बाद दिल्ली में जो हुआ वो दिल दहला देने वाला था. पूरी दिल्ली श्मशान घाट बन गई थी. जगह-जगह सिखों के घर फूंके जा रहे थे. ये गुस्सा था जो पूरी तरह से प्लान करके सिखों पर उतरा था. चूँकि इंदिरा जी की ह्त्या उनके सिख बॉडीगार्ड्स सतवंत सिंह और बेअंत सिंह ने की थी तो इसका बदला निर्दोष सिखों की ह्त्या करके लिया जा रहा था. घर से निकाल कर लोग मारे जा रहे थे. बच्चों तक को नहीं छोड़ा गया था. तब से लेकर अब तक 34 साल हो गए. कई परिवार देश छोड़ बाहर जा बसे. उनमें से कई ने पलट कर वापस भारत का रुख नहीं किया. इतने गहरे घाव जो आज तक नहीं भर सके.

इस घटना को 34 साल हो गये लेकिन सुनियोजित नरसंहार का शिकार हुए सिखों को न्याय नहीं मिला. लेकिन फिर एक शुरुआत हुई तथा अब एक उम्मीद की किरण भी जगी है जब सिखों के नरसंहार के आरोपी कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. सिख विरोधी इन दंगों के दौरान दिल्ली के राजनगर में पांच सिखों की हत्या का. इसी मामले में आज उसे सजा हुई है. जिन सिखों की हत्या हुई थी, उनके नाम थे कुलदीप सिंह, रघुविंदर सिंह, नरेंद्र सिंह, गुरप्रीत सिंह, और केहर सिंह.  2013 में इस मामले में निचली अदालत ने सज्जन कुमार को बरी कर दिया था. 17 दिसंबर को दिए गए अपने फैसले में दिल्ली हाई कोर्ट ने इस फैसले को पलट दिया और सज्जन कुमार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई. सज्जन कुमार पर 1984 सिख नरसंहार के तीन मामलों में केस चल रहे हैं. जिस मामले में सजा सुनाई गई है वो राजनगर में हुई हत्याओं के मामले में है.

इस मामले में कैप्टन भागमल, गिरिधारी लाल, पूर्व कांग्रेसी काउंसिलर बलवंत खोखर को भी आजीवन कारावास की सजा मिली है. किशन खोखर और महेंदर यादव को 10 साल की कैद मिली है. हाई कोर्ट ने ये कहा कि दोषी अपने राजनीतिक बैकग्राउंड की वजह से बच निकलने में सफल हुए थे. हाई कोर्ट ने अपने फैसले में ये भी कहा कि सज्जन कुमार को इस केस में सजा मिलने के पीछे तीन गवाहों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है. ये नाम हैं जगदीश कौर, निरप्रीत कौर, और जगदीश सिंह. यहाँ हम आपको बताते हैं उन दो बहादुर औरतों के बारे में जिनकी लड़ाई की वजह से आज सज्जन कुमार को सजा हुई है–

1जगदीश कौर

जगदीश कौर घटना के समय शिव मंदिर मार्ग, राजनगर में रहती थीं. परिवार में पति, तीन बेटियां और दो बेटे थे. इनके भाई जगशेर सिंह भी महत्वपूर्ण विटनेस रहे पूरे मामले में. ये जगशेर सिंह की बुआ की बेटी हैं. केहर सिंह इनके पति, गुरप्रीत सिंह इनका बेटा. गुरदीप उससे छोटा बेटा. जब 1 नवम्बर को उनके आस पास का माहौल खराब होना शुरू हुआ, तब वो अपने पड़ोसी राम अवतार शर्मा के पास चली गईं. ताकि वहां सुरक्षित रह सकें. दोपहर 1.30 से 2 बजे के बीच उनके घर में एक भीड़ घुस आई जो हथियारों से लैस थी. वो भीड़ उनके बेटे गुरप्रीत और पति केहर सिंह को खींच ले गई. केहर सिंह का सिर पटक कर फोड़ दिया गया. उनकी वहीं मौत हो गई. बेटा गुरप्रीत चोट खाकर भी भागा. लेकिन उसे पकड़कर जला दिया गया.

जगदीश कौर ने इस भीड़ में बलवान खोखर की पहचान की थी. अपने बेटे की लाश घर में वापस लाने के बाद जब वो पास की पुलिस चौकी पहुंचीं, तो वहां मौजूद असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर ने तथाकथित रूप से कहा ‘भाग यहां से, अभी तो और मारेंगे. जब सब मर जाएंगे जो कुछ होगा सब इकट्ठा होगा.’ जब वो घर लौटीं तो राम अवतार शर्मा ने उन्हें घर से निकाल दिया, अपनी सुरक्षा की चिंता में. वो अपने बच्चों को अपने घर की छत के ऊपर एक कम्बल के नीचे छुपा कर प्रार्थना करने लगीं. अपने कजिन भाइयों नरेंदर पाल सिंह, रघुविंदर सिंह, और कुलदीप सिंह को भी उन्होंने भीड़ के द्वारा ले जाए जाते हुए देखा. इसके बाद उन्होंने अपने घर के किवाड़ लगा लिए. जब वो 2 नवम्बर को लगभग 9 बजे पुलिस चौकी शिकायत दर्ज कराने गईं, तो देखा वहां पब्लिक मीटिंग चल रही थी जहां सज्जन कुमार भी मौजूद था. वो उस वक़्त लोकल सांसद था. जगदीश कौर ने सज्जन कुमार को कहते हुए सुना, ‘सिख साला एक भी नहीं बचना चाहिए. जो हिन्दू भाई उनको शरण देता है उसका घर भी जला दो और उनको भी मारो’. जगदीश ने कोर्ट को ये भी बताया कि उस पुलिस चौकी के इंचार्ज ने भीड़ से पूछा था कि ‘कितने मुर्गे भून दिए ?’

2-निरप्रीत कौर

ये भी राज नगर गुरूद्वारे के पास ही पालम कॉलोनी में रहती थीं. इनके पिता थे निर्मल सिंह, मां सम्पूरन कौर. निर्मल सिंह राजनगर गुरूद्वारे के प्रेजिडेंट थे. जब ये घटना हुई, उस समय निरप्रीत 16 साल की थीं. इनके पिता निर्मल सिंह को भीड़ ने जला कर मार डाला था. बलवान खोखर, महेंदर यादव और किशन खोखर नाम के तीन लोग उनके घर आए थे, और उनके पिता को ले गए. साथ ही साथ वहां मौजूद सभी सिखों की कृपाण भी लेते गए. अपने पिता को जाते देख निरप्रीत को चिंता हुई. वो पीछे-पीछे भागीं तो देखा उनके पिता के ऊपर किरासन तेल डालकर आग लगा दी गई थी. किसी तरह नाले में कूदकर उन्होंने खुद को एक दो बार बचाने की कोशिश की, तो उनको लोहे के डंडे से पीटा गया. फिर उनके ऊपर महेंदर यादव ने फोस्फोरस डाल दिया. अपने पिता को निरप्रीत बेबस जलते हुए देखती रहीं. वहां से भागीं, मां के पास आईं तो वो बेहोश पड़ी थीं घर पर. पुलिस ने भी कोई मदद नहीं की. अपनी जान पहचान के एयर फ़ोर्स में तैनात संतोक सिंह संधू से उन्हें मदद मिली जो उन्हें वहां से अपने साथ बचा ले गए.

ये सब कुछ सुनने के बाद किसी भी आम इंसान के भीतर इतनी हिम्मत नहीं बचती कि वो 34 साल तक न्याय की आस लगाए बैठे रहे. लेकिन जगदीश और निरप्रीत ने ऐसा किया. अगर वो नहीं होतीं, उनकी हिम्मत नहीं होती, तो शायद आज भी सज्जन कुमार को सजा नहीं होती. आखिर निचली अदालत ने तो बरी कर ही दिया था. जगदीश कौर तथा निरप्रीत कौर के सामने तमाम परेशानियां आई लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, गुरु नानक देव जी तथा गुरु गोविन्द सिंह जी से मिली संघर्ष की प्रेरणा से वह न्याय के लिए लड़ती रही तथा अंत में अब उनको जीत मिली है तथा उम्मीद जगी है कि सज्जन कुमार के बाद बाकी आरोपियों को भी सजा मिलेगी.

Share This Post