शिमला घूमने जाने वाले सैलानियों को रेलवे का तोहफा… अब ट्रेन में कांच की छत से देख सकेंगे खूबसूरत वादियां और शानदार नजारे

कालका से शिमला घूमने जाने वाले सैलानियों के लिए भारतीय रेलवे एक अनमोल तोहफा लेकर आई है. वो तोहफा जिसे पाकर कालका से शिमला घूमने जाने वाले सैलानियों का मजा इस बार दोगुना हो जाएगा. ट्रेन मार्ग द्वारा कालका से शिमला जाने वाले सैलानी इस बार ट्रेन की कांच की छतों से शिमला की खूबसूरत वादियां और शानदार नजारे देख सकेंगे. इस बार विश्व धरोहर में शामिल कालका-शिमला रेल मार्ग पर सैलानी हसीन वादियों के साथ-साथ शीशे की छत से बादलों से गिरती बर्फ और पहाड़ों से गिरते झरने के पानी का आनंद ले सकेंगे.

आपको बता दें कि भारतीय रेलवे ने हाल ही में निर्मित विस्टा डोम कोच को सैलानियों के लिए चलाने की तैयारियां लगभग पूरी कर ली है। जल्द ही ये कोच विश्व धरोहर में शामिल कालका-शिमला रेल मार्ग पर दौड़ता दिखाई देगा. इस पारदर्शी कोच में सैलानी भीतर से ही बाहर के प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद उठा सकेंगे. बताया गया है कि विस्टा डोम कोच को ट्रेन नंबर 52453 व 52454 कालका-शिमला मेल के साथ चलाया जाएगा.  नए कोच में कुल 36 सवारियों के बैठने की जगह होगी तथा विस्टा डोम कोच में सीट का रिजर्वेशन आनलाइन करवाया जा सकेगा.

विस्टा डिम कोच में एक सीट का एक तरफ का किराया वयस्क के लिए 130 रुपये, पांच साल से 12 साल के बच्चों के लिए 75 रुपये होगा और पांच साल से कम के बच्चे निशुल्क कोच में सफर कर सकेंगे. गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व कालका पहुंचे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने विस्टा डोम कोच से हिमाचल प्रदेश के सोलन तक सफर किया था. इस दौरान रेलवे के अधिकारियों ने रेल मंत्री को विस्टा डोम कोच की खूबियों से अवगत करवाया था. विस्टा डोम कोच की सीटें लकड़ी के साथ कुशन लगाकर तैयार की हैं. कोच के भीतर परंपरागत इंटीरियर स्वरूप देने का प्रयास किया गया है. कोच में सुरक्षा के लिए स्टील रेलिंग लगाई गई है. मजबूत शीशे वाली छत के कोच में आकर्षक फ्लोरिंग और एलईडी लाइटें लगाई गई हैं.

रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक़, विस्टा डिम कोच में तापमान यंत्र भी लगे होंगे ताकि सैलानी जगह-जगह के तापमान से अवगत हो सकें. कोच को वायलेट और सुनहरे रंगों से रंगा गया है. कोच में 36 यात्रियों के बैठने की सुविधा है. विस्टा डोम कोच की छत और दीवारें पारदर्शी बनाई गईं हैं, इतना ही नहीं कोच पूरी तरह वातानुकूलित है. डीआरएम अंबाला दिनेश कुमार ने बताया कि अगले सप्ताह से विस्टा डोम को कालका- शिमला रेलवे ट्रैक पर सैलानियों के लिए चला दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि भारतीय रेलवे का प्रयास है कि यात्रियों को कम से कम किराए में बेहतर सुविधाएं दी जाएं. निश्चित रूप से रेलवे के इस प्रयास से कालका से   शिमला की यात्रा और ज्यादा आकर्षक हो सकेगी.

Share This Post

Leave a Reply