जहीरुद्दीन को सेक्युलर हिन्दू समझते थे एक मजदूर .. लेकिन वो जो निकला उसको जान कर काँप गये वो सभी, जिनके घरो में उसने मजदूरी की

अभी हाल में ही zomato विवाद ने हर किसी का ध्यान अपनी तरफ खींचा था. उस समय विवाद ये था कि डिलीवरी बॉय भले ही कोई क्यों न हो पर ग्राहक को उस से खाना लेना ही होगा . उस समय बताया गया था कि खाने का कोई धर्म नहीं होता और किसी भी मत मजहब के स्टाफ को उसके नाम के आधार पर वर्गीकृत नहीं किया जाना चाहिए . लेकिन मध्य प्रदेश में जब NIA ने छापा मारा वो हैरान कर देने वाले हालात निकल कर आये और कईयों के पैरों तले जमीन खिसक गई है .

यहाँ पर बंगाल में ब्लास्ट कर के इंदौर शहर में छिपा एक दुर्दांत आतंकी जहीरुल गिरफ्तार हुआ है .. जहीरुल ने खुद को यहाँ पर मजदूर के रूप में ढाल लिया था और लोगों के घरों में मजदूरी करने जाया करता था. वो कई हिन्दुओ के घर और साईट पर मजदूरी किया और अपनी पगार या दिहाड़ी ले कर आगे बढ़ गया . कोई उसको भांप भी नही पाया था कि वो असल में एक दुर्दांत आतंकी है जिसके दिमाग में चल रहा है एक बेहद खौफनाक खेल और वो खेल शुरू होने से पहले NIA ने खत्म कर दिया है .

ध्यान देने योग्य है कि गिरफ्तार आतंकी जहीरुल के बारे में बताया जा रहा है कि वो मजदूरी करते हुए वो सभी स्थान बड़े ध्यान से रेकी कर रहा था जहाँ उसको आने वाले 15 अगस्त को ब्लास्ट करना था . उसकी नजर उन इलाको में थी जहाँ अधिक से अधिक नुकसान हो .. फिलहाल जहीरुल की गिरफ्तारी के बाद आम जनता ने राहत की सांस ली है और हर कोई NIA की तारीफ कर रहा है लेकिन सवाल उठता है कि आखिर अब किस पर और कैसे विश्वास किया जाय जब मजदूर तक में आतंकी निकल रहे हैं .


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share