किसी की वेल्डिंग दुकान, कोई ऑटो चालक, किसी की दवा की दुकान..ये वो हैं जो पकड़े जा रहे NIA द्वारा, देश को तबाह करने की साजिश में

ये वो हैं जिनको इनके इलाके में बेहद शरीफ, इज्जतदार और सामाजिक लोगों में गिना जाता था..सेकुलर लोग तो इनकी मिसाल देते थे धर्मनिरपेक्षता के लिए ..किसी ने सोचा भी नही था कि इनके मन मे क्या चल रहा है उस देश के खिलाफ जिस देश ने इन्हें हर वो सुख सुविधा व अतिरिक्त अधिकार दिए जिसको इन्होंने मांगा था..जानिए वो पूरी लिस्ट जो इस समय हैं NIA के रडार पर और सोचिए कि कितना मुश्किल है अपने बीच मे ऐसी मानसिकता वालों की पहिचान करना और ये भी सोचिए कि समाज का वो कौन सा वर्ग है जो इस दुर्दांत सोच से संक्रमित नही हुआ है..

1.मो सुहैल –  उम्र- लगभग   29 –  मदरसे का मौलवी, सबको अक्सर प्यार भाई चारे की कहानी बताता दिख जाया करता था ..

2 – अनस युनूस-  उम्र-24-  सिविल इंजीनियर- हर किसी की नजर में मात्र एक मेहनत करने वाला अधिकारी था और खुद को सिर्फ काम के प्रति समर्पित रहने वाला दिखाया करता था..

3- राशिद जफ़र- उम्र-23 – कपडा व्यापारी- सबसे ज्यादा   व्यवसााायिक रिश्ते हिदूओ से थे..बात करने में बेहद निपुुुण .

4.मो ईरशाद -उम्र-30 ऑटो चालक- हर सवारी से मेहनत की कमाई खाने और खिलाने की बात करता था..सबको रास्ते मे सर्वधर्मसँभाव का चेहरा दिखाता था..महिलाओं के विशेष सम्मान का दिखावा..

5- मो आजम- उम्र-35  दवाई की दूकान- इलाके का प्रतिष्ठित नाम..दवा की आड़ में देशद्रोह का कारोबार.सबको सहायता आदि करने का दिखावा और तमाम लोगो को जमा कर के व्यवसाय की मीटिंग के बहाने आतंक की पाठशाला..

6- जैद मालिक, उम्र-29 – सिम कार्ड की दुकान- मोबाइल से सम्पर्क करवाने आदि में माहिर..तमाम लोगो के ID आदि के दुरुपयोग की आशंका..हिन्दू लड़कियों के रिचार्ज आदि के बहाने काली मानसिकता का प्रदर्शन..

 

7.साकिब इफ़्तेख़ार- उम्र-35 – मस्जिद में इम्माम- मुह पर मज़हब नही सिखाता आपस मे बैर रखना की बात..मीठी व लच्छेदार बातों का उस्ताद..धर्मान्तरण के कार्यो में भी संलिप्तता की आशंका..

8- ज़ावेद – उम्र-21 स्टूडेंट – मात्र दिखावे की पढ़ाई व उसके हिसाब से कैरियर की बातें..कैरियर तलाश रहा था आतंक मे..अम्मी अब्बा के हिसाब से दुनिया का सबसे शरीफ बच्चा ..

9 – सईद अहमद, उम्र-20 – वेल्डिंग की दुकान- लोहा जोड़ने पर देेेश तोड़ने की साजिश.. सबकी नजर में बस एक मेहनती आदमी पर अंदर से बेहद क्रू्र और देेेश ही नही बाकी धर्म से नफरत करने वाला..

10- जुबैर मालिक- उम्र-20 – दिल्ली यूनिवर्सिटी- हाथ में किताब पर मन मेें बारुद.. सहपाठियों के बीच एक पढ़ने वाला छात्र पर ऐसा साजिशकर्ता जिसकी भनक किसी को नही लग पाई..

 

 

इनके पास में मिला ये सब-

पिस्टल-12

तलवार-135

चाक़ू-45

कारतूस-150

रॉकेट लॉन्चर-1

Time बम-24,

सिमकार्ड-134,

25kg बारूद,

112 अलार्म क्लॉक,

91 मोबाइल फोन,

3 लैपटॉप

 

इनके टारगेट-

26जनवरी,

RSS,

VHP,

बजरंग दल

हिन्दू हिंदुत्व की आवाज उठाते लोग.

हिंदूवादी संगठन,

मँदिर

सरकारी स्कूल

सरकारी अस्पताल

सरकारी संस्थान.

Share This Post