अदालत से बरी हो गये गौ रक्षक तो अब कांग्रेस सरकार ने उठा लिया ये कदम ..

जिस प्रकार से झारखंड में एक संदिग्ध चोर को राष्ट्रीय हीरो बना कर पेश कर दिया गया और उसके साथ जोड़ डाली गई साजिशो के ऐसे तार कि सभ्य और सहिष्णु समाज को ही कटघरे में खड़ा कर दिया गया अब उसी की राह पर एक और वाकया किया जा रहा है कांग्रेस शासित उस राजस्थान में जहाँ जनता ने बड़ी उम्मीद से गहलोत सरकार को चुना था एक बड़े बदलाव के लिए.. यहाँ जिस युवा सचिन पायलट से बाँध रखी गई थी तमाम आशा वही अब अशोक गहलोत के साथ मिल कर बदल रहे हैं अपने रंग भी .

ध्यान देने योग्य है कि कांग्रेस सरकार के समय में अदालत ने आख़िरकार न्याय करते हुए संदिग्ध गौ तस्कर की मौत के मामले में गौ रक्षको को बरी कर दिया .. इस फैसले के आते ही ओवैसी और प्रियंका गांधी तक एक स्वर में बोल उठे थे और वो इशारा राजस्थान की कांग्रेस सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे अशोक गहलोत और सचिन पायलट के लिए पर्याप्त था.. अब उसी के बाद बरी हुए गौ रक्षको के खिलाफ गहलोत सरकार ने लिया है एक बड़ा निर्णय .

ध्यान देने योग्य है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने अलवर पहलू मौत केस में एसआईटी जांच के आदेश दे दिए हैं। इस पर पहलू खान के परिवार के सदस्यों ने ख़ुशी जाहिर की है और उनका कहना है कि सरकार के इस आदेश के बाद हमारी उम्मीदें फिर से बंध गई है. अशोक गहलोत के निर्देश के बाद इस मामले प्रारंभिक जांच पड़ताल में यह पता चला है कि पहलू खान के मामले में पुलिस अनुसंधान में कमियां पाई गई है। इस सम्पूर्ण प्रकरण की जांच के लिए एडीजी क्राइम की निगरानी में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है। यह एसआईटी 15 दिन में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी. यद्दपि गौ रक्षक और हिन्दू संगठन कांग्रेस सरकार के इस फैसले से हतप्रभ हैं .

Share This Post