गौ रक्षको पर ऊँगली उठाई तो बसपा विधायक ने मायावती को ही दिखा दी आँखें..


लगातार हिन्दू और हिंदुत्व पर जब आँख बंद कर के आरोप लगने लगें और वो आरोप सीधे हिन्दू समाज की संस्कृति और सभ्यता तक को प्रभावित करने लगे तो कहीं न कहीं उसका प्रतिकार भी होता है . कभी अपने सांसदों और विधायको पर सबसे ज्यादा अनुशासन दिखा कर उत्तर प्रदेश की बेताज बादशाह रहीं मायावती ने कभी सोचा भी नहीं था कि उन को अपने ही विधायको द्वारा इस प्रकार से अपमानित जैसा होना पड़ेगा .. ऐसा हुआ है एक बार फिर से जो मायावती के लिए झटके से कम नहीं है .

ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश में दुर्दांत माफिया मुख़्तार अंसारी द्वारा हिंदूवादी विधायक कृष्णानंद राय की दिनदहाड़े हत्या करने के बाद खामोश रह कर उसको न्याय की जीत मानने वालों ने अब पहलू मामले में गौ रक्षको के बरी होने के उसको न्याय नही बल्कि अन्याय माना है .. इसमें तमाम राजनैतिक दल और राजनेता और राजनेत्री अपने अपने हिसाब से अपने बयान दे रहे हैं लेकिन अंत में उन सभी के निशाने पर कहीं न कहीं हिन्दू समाज और उसकी संस्कृति का मूल आधार गौ वंश है .

इसी मामले में मायवती ने भी इसको गहलोत सरकार की निष्क्रियता बताते हुए पहलू मामले में गौ रक्षको के बरी होने का विरोध किया तो उन्हें जवाब किसी हिंदूवादी संगठन या गौ रक्षक ने नहीं बल्कि खुद उनके ही विधायक ने दे डाला . इस विधायक का नाम है राजेन्द्र सिंह जिन्होंने मायवती को खुद से चुनौती जैसी दे डाली है . बहुजन समाज पार्टी के राजस्थान से विधायक विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने कहा कि “मायावती को जो जानकारी है वो एकदम गलत है . ये राजस्थान है और वो यहाँ से बहुत दूर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से बयान दे रही हैं और जो जांच हुई है उस से ठीक से परिचित नहीं हैं.. यहाँ कोई दलित अत्याचार का शिकार नहीं हुआ है . ..  मायावती को गौ रक्षको का पहलू खान के मामले में अपने ही विधायक से चुनौती मिलना किसी बड़े झटके से कम नहीं माना जा रहा ..


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...