दरगाह के दीवान ने बड़े जोश से कहा था कि- “मुसलमान जान दे देगा भारत के लिए”.. उन्हें क्या पता था कि ये हो जाएगा

वो भगवा रंग का इस्लामिक कपड़ा पहनते हैं और अक्सर देश और धर्म के मुद्दे पर बयान दिया करते हैं .  उनके बयानों के आधार पर देश में कई लोग सेकुलरिज्म को अपने अनुसार पारिभाषित करते हैं लेकिन उन्हें नहीं पता था कि उनकी जिन बातो को हिन्दू समाज बड़े ध्यान से सुन रहा है उन्ही बातो को कहीं जहर के समान माना जा रहा है और उस समाज में सेकुलरिज्म का कहीं दूर दूर तक कोई भी नामोंनिशाँ तक नहीं है . अब वही दीवान फंस गए हैं एक अजीब से मुसीबत में ..

यहाँ बात चल रही है अजमेर दरगाह के दीवान की जिनका नाम है जैनुअल आबेदीन . अजमेर दरगाह वो है जहाँ पर पाकिस्तान तक से लोग अक्सर आया करते हैं . इन्होने अभी हाल में एक बयान दिया था कि जिस दिन पाकिस्तान से जंग हुई उस दिन मोर्चे पर सबसे पहले भारत के मुसलमान दिखाई देंगे और पाकिस्तान को तहस नहस कर देंगे .. उस समय तमाम कैमरे उनकी तरफ घूम गये थे और बताया जाने लगा कि इसको कहा जाता है असली सेकुलरिज्म इस भारत का .

लेकिन कही कुछ और ही चल रहा था.. इस बयान को देने वाले दरगाह के सज्जादानशीन दीवान जैनुअल आबेदीन को अब लगातार त्माज जगहों से धमकियां मिल रही हैं और उनके व्हाट्सएप पर लगातार धमकी भरे संदेश आने शुरू हो गये है . व्हाट्सएप नम्बर पर आने के मतलब ये भी लगाए जा रहे हैं कि धमकी देने वाले इन्हें जाते हैं . इन्हें कत्ल करने की धमकी देते हुए कहा जा रहा है कि ये विश्व हिन्दू परिषद् के एजेंट बन चुके हैं .  उन्हें बाकयदा व्हाट्सएप पर लानत भेजते हुए कहा जा रहा है कि वो नरेन्द्र मोदी के हाथो बिक चुके हैं .. दीवान जैनुअल आबेदीन के बयान को सेकुलरिज्म का प्रतीक बता कर खूब प्रचार करने वाले उन्हें मिल रही लानत और धमकियां क्या  हैं उस पर  बोलने के लिए तैयार ही नहीं  दिखाई दे रहे हैं .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW