सुदर्शन वायरल चेक – कांग्रेस का अधिकारिक ट्विटर एकाऊंट फैला रहा है झूठ और बदनाम करने की कोशिश कर रहा श्रीराम और हिन्दू समाज को

वो एक जिम्मेदार पार्टी मानी जाती रही है.. पक्ष और विपक्ष राजनीति के सदा ही 2 रूप रहे हैं लेकिन विपक्ष में रहते हुए पक्ष अर्थात सत्ता में बैठी पार्टी के बजाय जब कोई सीधे सीधे हिन्दू समाज और उनके आराध्यो को ही निशाने पर लेने लगे तो ये माना जा सकता है कि राजनीति की दिशा और दशा दोनों भ्रमित हो चुकी है . यहाँ बात चल रही है वर्तमान समय में सत्ता में वापसी के लिए हर कोशिश कर रही कांग्रेस पार्टी की जिसकी कोशिशो में अब शायद झूठ का दुष्प्रचार भी शामिल हो चुका है .

विदित हो कि चंदौली में खुद से खुद को आग लगाने वाले मुस्लिम लड़के की जिस मनगढ़ंत कहानी को अफवाह के तौर पर फैलाने की कोशिश अराजक तत्वों द्वारा की गई थी उस कोशिश को असफल करने के बजाय उस कोशिश को और बढ़ावा देती दिखी कांग्रेस, वो भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से.. यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि चांदनी चौक में मन्दिर टूटने की घटना पर शांति की अपील इसी ट्विटर हैण्डल से की जा रही थी जिसने अचानक ही अपने तेवर बदल डाले ..

ध्यान देने योग्य है कि चंदौली पुलिस ने बाकायदा पक्के प्रमाणों के साथ खुद से खुद को कतिपय कारणों से आग लगाने वाले मुस्लिम युवक का सच सबके सामने रखा . खुद से एक एक ट्विटर हैंडल पर जा कर अफवाहों पर विराम लगाने की कोशिश की.. मृतक की माँ तक ने कहा कि घटना में किसी भी प्रकार का सांप्रदायिक दृष्टिकोण नहीं है , फिर भी कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ के विरोध की सीमा को भगवान् श्रीराम तक पंहुचा डाला और असभ्य शब्दों में किया है एक बेहद निंदनीय कहा जा सकने वाला ट्वीट ..

कांग्रेस पार्टी अभी भी चंदौली की घटना में निर्दोष रहे हिन्दू युवको को दोषी मान कर चल रही है और तमाम खुलासो के बाद भी वो यही घोषणा कर रही है कि चंदौली के मुस्लिम युवक को जय श्रीराम न कहने पर जला कर मार डाला गया है . ये एक बड़ी साजिश कही जा सकती है हिन्दू समाज और श्रीराम के खिलाफ . यद्दपि हिन्दुओ के प्रति कान्ग्रेस के दृष्टिकोण से पहले ही हिन्दू समाज का बड़ा वर्ग वाकिफ हो चुका है लेकिन ऐसे संवेदनहीन कार्य उसको और पुख्ता कर रहे हैं .

अपने ट्विट में कांग्रेस ने बाकायदा योगी आदित्यनाथ के सन्यास पूर्व नाम को लिखते हुए साबित करने की कोशिश की है कि उत्तर प्रदेश में गुंडाराज है .. लेकिन उसके लिए जो प्रमाण दिए गये वो पहले से ही पुलिस की जांच में निराधार साबित हो चुके हैं ऐसे में निर्दोष लोगों को फंसाने की मंशा से ट्विट करने वाली कांग्रेस आख़िरकार चाहती क्या है इसका अनुमान लगाना सरल है . फ़िलहाल चंदौली पुलिस ने कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर भी बाकायदा आ कर उन्हें सत्य का ज्ञान करवाया लेकिन “कान्ग्रेस के निशाने पर श्रीराम और चंदौली के निर्दोष हिन्दू अभी भी बने हुए हैं ..

देखिए वो ट्विट –

उस ट्विट पर चंदौली पुलिस का जवाब –

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW