अड़ने और अकड़ने का बहुत गंदा इतिहास रहा है ZOMATO का. लखनऊ युनिवर्सिटी में कर चुके हैं मार पीट, सडक को कर चुके हैं जाम और इसके स्टाफ हंगामा काट चुके हैं थाने पर


एक व्यक्ति खाने का आर्डर करता है तो उसको पता चलता है कि उसका खाना जो ला रहा है वो शायद माँसाहारी हो इसलिए उसने सावन के माह भर में किसी हिन्दू व्यक्ति से हाथो खाने की डिलिवरी की मांग की . वर्तमान समय में कुछ मजहबी कट्टरपन्थियो द्वारा मन्दिर के भंडारे में जहर मिलाने की साजिश की खबरें भी प्रमुखता से चल रही हैं जिसको ले कर एक सभ्य और आम जनमानस पहले से ही किसी अनहोनी को ले कर शंका में हैं और सतर्क भी ..

बिजनौर में हुनमान जी के पवित्र पंचमुखी मन्दिर पर हमला. तोड़ी गई माँ भवानी की मूर्ति. माथे पर तिलक लगा कर पहुचे थे आदिल और शादाब

ZOMATO से बार बार खाना भेजने वाले स्टाफ को बदलने की मांग करने वाला ग्राहक एक पल के लिए मान भी लिया जाय कि वो अपनी जिद पर अड़ा हुआ था तो ये भी कहना गलत नही होगा कि उस से कहीं ज्यादा अपनी जिद पर ZOMATO कम्पनी अड़ गई थी और उसने किसी भी हाल में डिलीवरी बॉय बदलने से मना कर दिया . इतना ही नहीं , खाने का आर्डर भी कैंसिल करने से मना कर दिया और एक प्रकार से ये शर्त रख दी कि अब तुम्हे खाना खाना ही पड़ेगा और वो भी इसी मुसिलम लड़के के हाथ से .

क्या ये शर्त जिद नहीं थी .. निश्चित तौर पर जिद थी और अगर इस जिद के इतिहास में जाया जाए तो इस से पहले लगभग 10 माह पहले अर्थात सितम्बर 2018 में Zomato का एक डिलीवरी स्टाफ लखनऊ विश्वविद्यालय के हबीबुल्लाह छात्रावास में खाना डिलीवर करने गया था . वहां युनिवर्सिटी के छात्रो से किसी बात को ले कर नोकझोंक हुई तो ZOMATO के डिलिवरी बॉय ने उनसे जायदा अकड दिखाई जो माहौल को और ज्यादा गर्म कर गई और यही गर्मी विवाद और मारपीट में बदल गई .

सोशल मीडिया पर हिन्दू विरोधी घोषित हुई कम्पनी ZOMATO .छिड़ी बहिष्कार की मुहिम, मोबाईल से हटाए जा रहे एप

यहाँ हाथ दोनों तरफ से चले थे.. मामले में खुद को कमजोर पड़ता देखा कर Zomato के डिलीवरी बॉय ने पुलिस के बजाय अपने साथियों को फोन किया था और देखते ही देखते Zomato के कई स्टाफ वहां पहुच गये थे .. इस बीच सूचना पुलिस को मिली थी और दोनों पक्षों को भिड़ने से पुलिस ने खुद आ कर बचाया था और एक बड़ा विवाद खत्म किया था अन्यथा युनिवर्सिटी के छात्र से जायदा हिंसक अंदाज़ में Zomato के डिलिवरी स्टाफ दिखाई दे रहे थे .

पुलिस ने अपनी कार्यवाही करनी शुरू की थी कि अचानक ही Zomato के सभी स्टाफ शोर मचाना शुरू कर दिए थे और सडक को जाम करने का प्रयास करना शुरू कर दिया था . बाद में इन्ही सभी ने जा कर पुलिस थाने पर भी खूब हंगामा काटा था जबकि पुलिस वो सब कुछ कर रही थी जो नियमानुसार सही था . ट्विटर पर अच्छी अच्छी बातें करने वाला Zomato उस दिन सभी नियम और कानून भूल गया था कि सडक पर हंगामा करना और थाने के आगे पुलिस के कार्य में बाधा डालना भी कानूनी अपराध है ..

संसार के सबसे बड़े दरिन्दे और नरपिशाच ओसामा बिन लादेन की औलाद हमजा बिन लादेन की मौत की खबर

फिलहाल ट्विटर और फेसबुक पर काफी संख्या में लोग Zomato से नाराज चल रहे है और उसमे से कई लोग इस कम्पनी के बहिष्कार की अपील भी कर रहे हैं . इस पुराने इतिहास के सामने आने के बाद इस कम्पनी का असल चेहरा अन्य लोगों के सामने आने की सम्भावना जताई जा रही है जो मात्र इस कम्पनी के ट्विट के आधार पर इसके साथ खड़े हो रहे हैं. आज से लगभग 10 माह पहले इस घटना के बाद भी उस समय लखनऊ युनिवर्सिटी के तमाम छात्रों ने इस कम्पनी का बहिष्कार करने का एलान किया था जो वृहद रूप नहीं ले सकी थी .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share