Breaking News:

नाबालिग बच्ची के बलात्कारी अजरुद्दीन, बशारत, असरूद्दीन और समसू खान को सब देखना चाहते थे फांसी पर झूलते लेकिन अदालत ने उन्हें दी ये सजा

उन दरिंदो ने पार की थी निर्दयता की तमाम सीमाएं और तार तार किया था न सिर्फ एक नाबालिग की इज्ज़त बल्कि तबाह किया था उसका जीवन भी . उन्होंने एक बार भी दया नहीं दिखाई उस बच्ची पर लेकिन कानून ने अपना काम किया था और उनको पुलिस ने भेज दिया था सलाखों के पीछे उनके कुकर्मो की सजा भोगने के लिए.. इसके बाद तमाम लोगों की नजरें अदालत की तरफ थी जहाँ ट्रायल के बाद आने वाला था वो फैसला जिसमे उन दरिंदो को सभी लोग फांसी पर झूलता देखना चाह रहे थे .

ये मामला है राजस्थान के अलवर जिले का जहाँ अदालत ने बलात्कारियो के खिलाफ दिया है एक कठोर फैसला ..अलवर जिले के किशनगढ़ बास थाना इलाके में एक ७वीं कक्षा की छात्रा के साथ हुए सामूहिक बलात्कार केस में ४ साल बाद बृहस्पतिवार (सितंबर १२, २०१९) को दोषियों को सजा सुनाई गई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जिला पॉक्सो संख्या ४ न्यायाधीश महोदया अलका शर्मा जी की अदालत ने नाबालिक पीड़िता से सामूहिक बलात्कार के ४ आरोपितों को २०-२० साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है।

नाबालिग से गैंगरेप के इन दोषियों के नाम अजरुद्दीन, बशारत, असरूद्दीन, समसू खान हैं .. किशनगढ़ बास थाना क्षेत्र के मुसा खेड़ा गाँव की इस घटना में सातवीं कक्षा में गाँव के ही सरकारी स्कूल में पढ़नेवाली एक नाबालिक बच्ची को आरोपित उसके घर से उठाकर ले गए और कार से किशनगढ़ बास में ले जाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था . नाबालिग पीड़िता को धमकाते हुए उसे आरोपित अजरुदीन ने १५ जुलाई २०१५ की रात्रि को फिर उसके घर से बुलाया। इस घटना के बाद वह अलवर गई और अलवर से अजमेर चली गई थी। इसके बाद नीमच मध्यप्रदेश चली गई, जहाँ पुलिसवालों ने उसे बैठे देखकर पूछताछ की थी।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW