जिस फेसएप से कई लोग बदल रहे हैं अपने चेहरे आख़िरकार उस पर आ ही गया मौलाना का फरमान

वर्तमान समय में फेसएप तमाम मोबाईल में अपनी जगह बनाता जा रहा है . इसके कई लोग ऐसे क्रेजी होते जा रहे हैं कि उन्होंने अपने 20 वर्ष बाद के और 20 वर्ष के कई फोटो कई पोजो में खीच रखे हैं . इसमें अपने फोटो को कई रूपों में एडिट आदि करने की सुविधा होने के चलते इसकी लोकप्रियता बढती जा रही थी .. लेकिन अप्रत्याशित रूप से इस पर अब मुस्लिम प्रतिनिधियों की भी नजर गई है और अब आया है इस प्रसिद्ध एप पर एक नया फरमान मुस्लिम महजबी गुरु का .

ये नया फरमान जारी करने वाले मौलाना झारखंड से हैं . एदार ए शरिया झारखंड के नाजीम ए आला मौलाना कुतुबुद्दीन रिजवी का है जो इस ऐप के उपयोग का कड़ाई से रोकने की बात कर रहे हैं . तमाम तर्क कुतर्क आदि के साथ उन्होंने अपने दावे पर कायम रहते हुए मजबूती के साथ कहा है कि यदि अभी भी कोई इसका उपयोग करता है तो वह यकीनी तौर पर गुनाहगार होगा. उन्होंने इस एप का उपयोग हराम बताते हुए कहा कि इसीलिए वो इस ऐप का इस्तेमाल ना करने की नसीहत दे रहे है..

मौलाना कुतुबुद्दीन के अनुसार इस ऐप का उपयोग आपको अल्लाह की नाराजगी का जरिया बनाएगा, . रांची के इस मौलाना ने इस एप पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि यह हराम है। इसका इस्तेमाल करने वाला अल्लाह के सामने गुनहगार होगा। लेकिन मौलाना के इस तर्क का उनके ही समाज पर ज्यादा असर नहीं दिखाई दे रहा है . खुद मुस्लिम समाज की छात्राएं इस आदेश को अनुचित मान रही हैं. उनका कहना है कि यह एप केवल मनोरंजन के लिए है और इस पर मत या मजहब का रंग देने की आवश्यकता नहीं।

Share This Post