बंगाल को आतंक का अड्डा बना देना चाहता था एजाज.. गिरफ्तारी से पर्दाफाश हुआ नकली सेक्यूलरिज्म का जिसे कहते हैं तुष्टीकरण


हाल ही में बिहार के गया के मानपुर से गिरफ्तार किये गये बंगलादेश के इस्लामिक आतंकी दल जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश के  आतंकी एजाज अहमद से पूंछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है. एजाज अहमद का ये खुलासा उन कथित सेक्यूलरों तथा बुद्धिजीवियों को जवाब है जो मानवाधिकारों के नाम मजहबी तुष्टीकरण करते हैं, घुसपैठियों की पैरोकारी करते हैं. जांच में सामने आया है कि एजाज उत्तर बंगाल को संगठन का गढ़ बनाने की फिराक में था. एजाज भारत में जमात-उल-मुजाहिदीन का चीफ था.

सुरक्षा एजेंसियों को पूछताछ में पता चला कि एजाज को प्रतिबंधित आतंकी संगठन ने भारत में अपना ‘अमीर’ (प्रमुख) बना रखा था. एजाज ने पिछले एक साल में कई बार उत्तर बंगाल का दौरा किया. वह मुर्शिदाबाद जिले में धूलियां मॉड्यूल को मजबूत करने के लिए कार्य कर रहा था. जांचकर्ताओं ने पाया कि एजाज उत्तर दिनाजपुर जिले में भी एक और नया मॉड्यूल बनाने की फिराक में था. इसके लिए भर्तियों का काम भी शुरू कर दिया गया था. एजाज पश्चिम बंगाल में आतंकी संगठन की गतिविधियों का चार्ज लेने के लिए किसी सही शख्स की भी तलाश में था.

जानकारी मिली है कि आतंकी एजाज अहमद पश्चिम बंगाल का रहने वाला है,और अपना नाम बदल कर वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ गया के पठान टोली में रहता था. इसकी सूचना कोलकाता पुलिस को लग गई थी. एजाज की गिरफ्तारी पर गया जिले के सहायक पुलिस अधीक्षक (नगर) मंजीत कुमार ने कहा था कि ‘जेएमबी से जुड़े आतंकी मोहम्मद एजाज अहमद को गया जिले के मानपुर थाना क्षेत्र के पठान टोली से गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तारी के बाद आतंकी एजाज अहमद को गया की एक अदालत में पेश किया गया, जहां से कोलकाता पुलिस की टीम उसे लेकर पश्चिम बंगाल ले गई.’

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...