आधे रास्ते से वापस अमरनाथ यात्रियों ने कहा – “महादेव ने तो इस बार बिना दर्शन के ही आशीर्वाद दे दिया”

ये पहली बार हुआ होगा जब पूरी तैयारी के साथ अपने आराध्य के दर्शन के लिए निकले हिन्दू समाज के कई दर्शनार्थियों को आधे रास्ते से वापस बुलाना पड़ा था . उस समय कोई समझ नही पा रहा था कि आखिर ऐसा क्या हो गया जो अमरनाथ यात्रियों को आधे रास्ते से वापस जाने की सलाह मिल रही है . उस समय किसी को समझ नहीं आया कि क्या हो रहा है .. कुछ ने समझा कि ये पाकिस्तान की तरफ से किसी सम्भावित हमले की आहट है तो कुछ ने समझा कि आतंकी हमले की सम्भावना है .

दंगे की धमकी देने वाले और धारा 370 हटाने वाले के हाथ जलाने की चुनौती देने वालों में हिम्मत है तो सामने आयें- शिवसेना

वापस लौटने वाले अमरनाथ यात्रियों को ले कर कुछ ने अपनी अपनी राजनैतिक रोटियों को सेंकना शुरू कर दिया था और भारतीय जनता पार्टी को निशाने पर लेना शुरू कर दिया था.. इतना ही नहीं वो सब बार बार सैनिको की आवाजाही को निशाने पर ले रहे थे और उसी बहाने से तमाम प्रकार से भ्रम पैदा कर रहे थे. लेकिन तमाम आरोप प्रत्यारोप झेल कर भी भारतीय जनता पार्टी के 2 मुख्य चेहरे अमित शाह और नरेंद्र मोदी खामोश बैठे रहे और समय का इंतजार करते रहे.

आज शांति मिली श्यामा प्रसाद मुखर्जी की आत्मा को.. “जहाँ हुए थे बलिदान मुखर्जी” … अब वो कश्मीर हमारा है

अचानक ही कश्मीर से धारा 370 हटने की खबर आते ही अमरनाथ यात्रा से लौटे यात्रियों में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी . आधे रास्ते से लौटे कुछ अमरनाथ यात्रियों से बात करने पर उन्होंने ख़ुशी से झूमते हुए बताया है कि इस से बड़ा आशीर्वाद आखिर उन्हें क्या मिल सकता था. अमरनाथ यात्रियों ने कहा कि वो ख़ुशी से फूले नहीं समा रहे है क्योकि इस बार उन्हें महादेव शिव ने बिना दर्शन के ही इतना बड़ा आशीर्वाद दे दिया है जो देश के हर राष्ट्रभक्त को गौरवान्वित होने का अवसर दे रहा है .

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post