धारा 370 हटाने का सबसे ज्यादा लाभ होगा कश्मीरी लड़कियों को.. जानिये कैसे बदल जाएगा उनका जीवन ?

कश्मीर से धारा 370 हट चुकी है. जनसंघ से समय से चला रहा कश्मीर से 370 हटाने का वादा मोदी सरकार ने पूरा कर दिया है. मोदी सरकार के इस फैसले के बाद पूरा देश बेहद खुश है तथा आम जनमानस तक तो दिल से ये महसूस हो रहा है कि अब कश्मीर पूरी तरह से हमारा हो चुका है. मोदी सरकार ने कश्मीर में लगे धारा 370 को खत्म कर यहां बहुत कुछ बदल दिया. इस धारा के हटने के बाद यहां की कश्मीरी लड़कियों का जीवन बदल जाएगा तथा इसका सबसे ज्यादा फायदा कश्मीरी लड़कियों को ही होगा.

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद यहां की महिलाओं के जीवन में बड़ा बदलाव आएगा. अब तक कश्मीरी महिलाओं सिर्फ शरीयत कानून के दायरे में आती थीं. जिसके मुताबिक यहां की महिलाओं के मसले भारतीय संविधान के बजाए शरीयत से सुलझाए जाते थे, लेकिन धारा 370 हटाए जाने के बाद उन्हें भारत की बाकी महिलाओं के समान सारे अधिकार मिलेंगे. धारा 370 लागू होने के बाद से जम्मू-कश्मीर की अगर कोई महिला कश्मीर के अलावा देश के किसी दूसरे राज्य में शादी करती है तो उससे नागरिकता छीन ली जाती थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.

चूँकि राज्य से धारा 370 हट चुका है, मतलब ये नियम पूरी तरह हट जाएगा. शादी के बाद भी कश्मीरी महिलाओं की नागरिकता बनी रहेगी. हालांकि अगर कोई कश्मीरी लड़की पाकिस्तान के किसी शख्स से शादी करती हैं तो अब उसे कश्मीर की नागरिकता नहीं मिलेगी, जबकि पहले पाकिस्तान के शख्स को कश्मीरी लड़की से शादी करने पर कश्मीर की नागरिकता आसानी से मिल जाती थी. घाटी में धारा 370 हटाए जाने के बाद महिलाओं को समान वेतन का अधिकार मिलेगा. अब उन्हें भी वो वेतन मिलेगा,जो केंद्र के वेतन नियमों के अनुसार होगा.

गौरतलब है कि जब संसद में जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 को हटाने का फैसला किया है, इसके बाद पूरे देश में जश्न मनने लगा. इसी क्रम में सोमवार शाम को संसद को भी रोशन किया गया और वहां तिरंगे के रंग की रोशनी बिखेरी गई. इसके साथ राष्ट्रपुत्र स्व. डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का वो सपना तथा संकल्प भी पूरा हो रहा है जिसमें उन्होंने कहा था कि एक देश में दो विधान, दो निशान, दो प्रधान नहीं चलेगा, नहीं चलेगा, नहीं चलेगा. अब देशभर में एक संविधान होगा, एक झंडा होगा तथा एक प्रधान होगा.

Share This Post