एनकाऊंटर स्पेशलिस्ट SSP से जब नायब शहर क़ाज़ी मांगने गया बकरीद में ऊँट काटने की अनुमति तो मिला ये जवाब

ये बदलते समाज और कसते क़ानून व्यवस्था का एक आईना है .. कभी वो समय भी था जब पुलिस का रोल मूकदर्शक तक बन जाने का आरोप लगा करता था एक वर्ग विशेष के खिलाफ मामलो में.. समय ये भी बताया जा रहा है कि मुज़फ्फरनगर दंगो में किस प्रकार से पुलिस को कहा गया था कि तुम क्या करो .. लेकिन अब जो कुछ भी सामने आ रहा है वो बदल रहे समाज का एक बड़ा आईना है और वो आईना दिखा रहा है कानून व्यवस्था का एकदम सही प्रतिबिम्ब .

ध्यान देने योग्य है कि पश्चिम उत्तर प्रदेश का सम्र्पद्यिक दृष्टि से संवेदनशील जिला है मेरठ.. यहाँ पर कानू व्यस्था के मामले में अक्सर साम्प्रदायिक रूप ले लिया करते थे लेकिन अब जो कुछ भी सामने आ रहा है वो प्रमाण है जनता के कानून में बढ़े हुए विश्वास का . नायब शहर काजी एवं जमियत उलमा हिंद के जिलाध्यक्ष जैनुर राशिदीन ने अपर मुख्य सचिव रमा रमण को 14 बिंदुओं का ज्ञापन देकर ऊंट की कुर्बानी पूर्व की तरह बेरोकटोक करने देने की मांग की।

इस पर रमा रमण ने डीएम-एसएसपी से बात करने का आश्वासन दिया, लेकिन मेरठ की कानून व्यस्था को एकदम नई राह पर ले जाने वाले वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक और एनकाऊँटर स्पेशलिस्ट अजय साहनी ने साफ कह दिया कि किसी भी कीमत पर ऊंट की कुर्बानी नहीं होने दी जाएगी.. इतना ही नहीं SSP अजय साहनी ने इसके बाद सभी थानाध्यक्षो को सीधे आदेश देते हुए कहा कि जिसके क्षेत्र में भी ऊँट काटा जाए वो काटने वाले को फ़ौरन जेल भेजे और ऐसे लोगों पर सख्त नजर रखें .. SSP साहनी के इस आदेश के बाद हर तरफ ख़ुशी की लहर दौड़ गयी और कुछ गिने चुने लोगों को छोड़ कर सबने एक स्वर में SSP साहनी के इस आदेश का स्वागत किया .


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share