श्रीराम मन्दिर पर सत्य और न्याय की बात करने वाले सलमान नदवी का कर दिया ये हाल.. लेकिन इसको नहीं दिया गया वो नाम जो बना दिया गया हिंदू के खिलाफ हथियार

एक तरफ हिन्दुओ ने असम में माता दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन में अज़ान की आवाज को सुन कर मूर्ति विसर्जन के कार्यक्रम को रोक दिया था तो वहीं दूसरी तरफ लखनऊ से जो घटना सामने आ रही है उसको किसी भी हाल में सेकुलरिज्म के सिद्धांतो पर सही नहीं माना जा सकता है .. पर जो कुछ भी हुआ उसमे वो वर्ग ख़ामोशी से बैठा है जिसकी आँखे प्रतीक्षा में रहती हैं की कब मामला किसी हिन्दू की गलती से जुडा सामने आये और उन्हें अवसर मिले स्वरचित मॉब लिंचिग शब्द के दुष्प्रचार का.

ध्यान देने योग्य है की कट्टरपंथी मुस्लिमो का विरोध करने वाले प्रसिद्ध धर्मनिरपेक्ष छवि के इस्लामिक जानकर स्कालर सलमान नदवी को पीटने की खबर आई है . सूत्रों से मिली जानकारी के माध्यम से बताया ये रहा है कि सलमान नदवी के द्वारा भगवान् श्रीराम मन्दिर के मामले पर सत्य और न्याय की बात करना कई कट्टरपन्थियो को रास नहीं आया था और उन्होंने काफी पहले से उन्हें नुक्सान पहुचाने की साजिश रची हुई थी .. आखिरकार उन्हें मौक़ा मिल ही गया .

सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार, सलमान नदवी दारूल उलूम नदवातुल उलामा कॉलेज की एक मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए यहां पहुंचे थे। इसी दौरान कई चरमपंथियों ने श्रीराम के मन्दिर मामले में उनके व्यक्तव्य को ले कर उनकी पिटाई की है . सलमान नदवी यहां एक बोर्ड मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे थे। इसी दौरान कॉलेज में मौजूद छात्रों, शिक्षकों और अन्य लोगों के दल ने उनपर हमला किया। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू की..

सलमान नदवी को हिन्दू समाज से मिलने वाला सम्मान उनके कई शत्रुओं को काफी समय से रास नहीं आ रहा था.  सलमान नदवी ने पूर्व में अयोध्या में राम मंदिर के लिए जमीन पर दावा छोड़ने की बात कही थी। सलमान नदवी ने कहा था कि इस्लाम खुद किसी मस्जिद को शिफ्ट करने की अनुमति देता है, ऐसे में मुस्लिम समाज के लोगों को अमन की खातिर जमीन पर दावा छोड़ देना चाहिए और किसी दूसरी जगह पर बड़ी जमीन लेकर समझौता करना चाहिए।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW