जो अनपढ़ आतंकी थे वो मार पाते 2-4 भक्तों को, जो पढ़ा लिखा आतंकी था उसने हजारों हिन्दुओं को मारने की कर ली थी तैयारी

महाराष्ट्र ATS द्वारा गिरफ्तार किये गये इस्लामिक आतंकी दल ISIS के 10 आतंकियों से पूंछताछ में सनसनीखेज खुलासे हो रहे हैं. इन खुलासों के बाद शायद उन लोगों के मुंह पर ताला लग सकता है जो कहते हैं कि गरीबी तथा अशिक्षा के कारण लोग हथियार उठाते हैं तथा आतंकी बनते हैं. ATS द्वारा गिरफ्तार किये गये इन आतंकियों ने पहले कबूला था कि ये सभी महाराष्ट्र के मुंब्रेश्वर मंदिर के महाप्रसाद में जहर मिलाकर सीरिया भागने के फिराक में थे लेकिन अब इन्होने जो कबूलनामा किया है वो हैरान करने वाला तथा भयावह है.

3 तलाक पर धैर्य खो रही मुस्लिम महिलायें.. ससुर को सरेराह जमकर पीटा

इन आतंकियों ने पूछताछ में बताया है कि वे सिर्फ महाप्रसाद में ही जहर नहीं मिलाना चाहते थे, बल्कि उनका प्लान मुंबई शहर की उन झीलों में भी जहर मिलाने का था, जिनसे मुंबई के घरों में पीने का पानी सप्लाई होता है. एटीएस ने जो चार्जशीट दर्ज की है, उसमें बताया गया है कि आईएसआईएस समर्थक तल्हा पोट्रिक नामक आरोपी ने नरसंहार को अंजाम देने के लिए मुंब्रा इलाके में ही प्रसाद में जहर मिलाने की साजिश रची थी. इसमें बताया गया कि आरोपी को बाजार से जहर हासिल करना मुश्किल हो रहा था. ऐसे में तल्हा पोट्रिक को एक शख्स की तालाश थी, जिसे केमिकल के बारे में अच्छी जानकारी हो.

2 दिन पहले हरदोई में बच्ची को कार से रौंदता चला गया था फैजान.. लेकिन नेताओं का शोर फैजान के खिलाफ क्यों नहीं ?

इसके बाद तल्हा पोट्रिक ने मुंब्रा के ही रहने वाले 32 साल के अबु किताल उर्फ जम्मान नवाब खुटेउपाड़ को अपनी टीम का सबसे खास सदस्य चुना. जानकारी के मुताबिक, पेशे से फार्मसिस्ट होने की वजह से अबु किताल के लिए लोकल बाजार से खतरनाक केमिकल हासिल करना बेहद आसान था.एटीएस की पूछताछ में पता चला कि इनके प्लान में सिर्फ महाप्रसाद में ही जहर मिलाना नहीं था बल्कि मुंबई को पानी सप्लाई करने वाली झीलों में भी केमिकल घोलने की साजिश शामिल थी ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को नुकसान पहुंचाया जा सके. यही वजह है कि आरोपियों ने कुछ झीलों की रेकी भी की थी.

निर्णय अटल हों तो सब होते हैं सहमत.. उलेमा बोले- “सही है, सड़क पर बंद हो नमाज”

इन आरोपियों ने सुरक्षा के लिहाज से सारा जहर का सामान एक जगह नहीं रखा, बल्कि तीन अलग-अलग आरोपियों के यहां स्टोर किया गया था. जहर बनाने का काम सलमान के घर पर अबू कतील यानी सलमान करता था. इन 10 आतंकियों में से अबु किताल नामक आतंकवादी काफी पढ़ा लिखा है और पेशे से फार्मासिस्ट है. ये आतंकवादी बाकायदा मुंबई महानगरपालिका में कर्मचारी था. इस आरोपी ने मुंब्रेश्वर मंदिर के महाप्रसाद में जहर मिलाने के लिए ने अपनी फार्मासिस्ट नॉलेज का फायदा उठाया. इस नॉलेज का फायदा उठाकर वो मुंबई के करीब 40000 लोगों की हत्या का मन बना चुका था.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

Share This Post