जो बेचा करता था सब्जी फुटपाथ पर, उसके बेटे को भाजपा ने दी वो जिम्मेदारी जो बना गई इतिहास

वो फुटपाथ पर सब्जी बेचते हैं.. कल जब उनके बेटे को भारतीय जनता पार्टी ने इतनी बड़ी जिम्मेदारी दी तो उनकी आँखों से आंसू निकल पड़े. उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि एक सब्जी बेचने वाले के बेटे पर बीजेपी इतना इतना दिखायेगी तथा इतनी बड़ी जिम्मेदारी देगी. बता दें कि उत्तर प्रदेश में 21 अक्टूबर को होने वाले उपचुनाव को लेकर रविवार को बीजेपी ने अपने 10 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. घोसी सीट पर हो रहे उपचुनाव में बीजेपी ने सब्जी बेचने वाले के बेटे विजय राजभर को प्रत्याशी घोषित किया है.

बीजेपी का कहना है कि विजय राजभर घोषी से उपचुनाव में पार्टी के उम्मीदवार होंगे. विजय राजभर के पिता सब्जी बेचते हैं, ऐसे में उनको उम्मीदवार बताकर पार्टी ने प. दीनदयाल उपाध्याय के सपने को साकार किया है. ज्ञात हो कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय का सपना था कि समाज के अंतिम व्यक्ति को भी देश के उच्च पदों और समाज की मुख्याधारा से जोड़ा जाए. इसी पर काम करते हुए बीजेपी ने पहले तो घोसी सीट के विधायक फागू चौहान को बिहार राज्य का राज्यपाल बनाया.

इसके बाद इसी सीट पर हो रहे उपचुनाव में सब्जी बेचने वाले के बेटे को प्रत्याशी घोषित कर चुनावी रण में उतार दिया. दरअसल, बीजेपी द्वारा जिस विजय राजभर को प्रत्याशी बनाया गया है, वो पार्टी के नगर अध्यक्ष के रूप में सक्रिय कार्य़कर्ता है. विजय राजभर आम और खास सभी पार्टी के कार्यक्रमों में अहम किरदार अदा करते हैं. विजय राजभर ने नगर पालिका क्षेत्र के चुनाव में एक बार सभासदी का चुनाव अपने ही सहादतपुरा मोहल्ले से लड़ा था. जिसमें जीत हासिल हुई थी.

बीजेपी प्रत्याशी विजय राजभर ने कहा कि पार्टी ने हमें बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है, मेरे पिता मुंशीपुरा के निकट फुटपाथ पर सब्जी बेचते हैं. मैं पार्टी की उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करूंगा. इस बात की जानकारी जब विजय राजभर के पिता नंदलाल राजभर को हुई कि उनके बेटे को विधायकी के लिए पार्टी ने टिकट दिया है तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. पिता ने पीएम मोदी का धन्यवाद करते हुए अपने बेटे को जीत का आशीर्वाद दिया.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW