इस्लाम में तो हाथ जोड़ना भी हराम है.. इसे किसी मौलवी या मौलाना ने नहीं बताया

इस्लामिक मौलाना/मौलवी अक्सर ऐसी तमाम चीजों तथा कार्यों को लेकर फतवा जारी करते रहते हैं, जिन्हें वो इस्लाम में हराम मानते हैं. कभी FaceApp को इस्लाम में हराम बताया गया तो कभी CCTV कैमरों को हराम बताया गया. कभी महिलाओं को नेल पोलिश लगाने को हराम बताया गया तो कभी उन्हें बारात में नाचने को हराम बताते हुए उसके खिलाफ फतवा जारी किया गया. लेकिन किसी मौलाना मौलवी ने कभी हाथ जोड़ने को इस्लाम में हराम नहीं बताया गया था लेकिन अब हाथ जोड़ने को भी इस्लाम में हराम बताया गया है तथा ये किसी मौलाना मौलवी ने नहीं बल्कि जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बताया है.

कांवड़ में आये मुस्लिम लड़के इरशाद को घेर लिया उन्मादियों ने.. फिर जो हुआ उसे नहीं कहा जा सकता सेक्यूलरिज्म

बता दें कि कल जम्‍मू-कश्‍मीर में अमरनाथ यात्रा पर प्रशासन की तरफ से नई एडवाइजरी जारी की गई है. प्रशासन की ओर से कहा गया है कि यात्रा समय से पहले खत्‍म की जा सकती है. जो लोग घाटी में हैं, वह वापस लौटें. इस एडवाइजरी के बाद जम्‍मू कश्‍मीर के मुख्‍य दल पीडीपी और नेशनल कॉन्‍फ्रेंस ने सख्‍त ऐतराज जताया है. उन्‍होंने कहा है कि इससे डर का माहौल बना है. इसको लेकर जम्मू  कश्मीर की पुर्व मुख्यमंत्री तथा पीडीपी प्रमुख महबूबा ने कहा है कि इस्‍लाम में हाथ जोड़ना हराम है, लेकिन फिर भी मैं हाथ जोड़कर सरकार से कहती हूं कि कश्‍मीरियों से उनकी पहचान मत छीनिए.

सड़कों के बजाय छतों पर नमाज शुरू.. असर दिख रहा कड़े क़ानून का

पीडीपी की मुखिया महबूबा मुफ्ती ने इस एडवाइजरी के बाद रात 9 बजे श्रीनगर में एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की. उन्‍होंने कहा कि मैंने 70 साल में घाटी में डर और भय का ऐसा माहौल नहीं देखा. प्रशासन की इस एडवाइजरी ने घाटी में डर का माहौल बना दिया है.  महबूबा ने कहा, जैसा डर अभी फैला है, वैसा उन्‍होंने कभी नहीं देखा. एक तरफ राज्‍यपाल कह रहे हैं कि यहां पर हालात सामान्‍य हैं, वहीं दूसरी केंद्र सरकार यहां पर लगातार सैनिकों की संख्‍या बढ़ा रही है.

सैलून वाले ने अपना नाम अजय रखा, हिन्दू लड़की उससे प्यार करने लगी.. शादी हुई तो मुंह दिखाई में हुआ गैंगरेप.. दरअसल वो अजय नहीं बल्कि अजमल था

वहीं एनसी नेता तथा राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी कहा है कि केंद्र सरकार अपने फैसलों से कश्मीर के लोगों को डराने की कोशिश कर रही है. इसे लेकर कश्‍मीर के डिवीजनल कमि‍श्‍नर ने कहा, नई एडवाइजरी के बाद कहीं भी कर्फ्यू नहीं लगाया गया है. घाटी में शनिवार को स्‍कूल सामान्‍य तरीके से खुलेंगे. हमें शांति व्‍यवस्‍था बनाए रखना है. गृह मंत्रालय ने जो एडवायजरी जारी की है, वह उन्‍होंने अपने इनपुट के आधार पर जारी की है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post