मस्जिद में चुपके से हुआ भगाई लड़की का निकाह. पहले हिन्दू संगठन पहुचे, फिर पहुची पुलिस. मौलवी हिरासत में

अगर किसी ने जवानी के जोश में कोई गलती की थी तो एक बुजुर्ग मौलाना हो कर उन्हें दोनों को समझाना था , पर वो तो देने लगे थे बढ़ावा उस कार्य को जो अपराध था , मानवता की नजर में भी और कानून की नजर में भी .

लव जिहाद के दायरे में लाने के लिए किसी को भी ना किसी कानून की फ़िक्र है , ना ही किसी प्रकार के नियमों की . वो जैसे भी , जहाँ भी , जिसको भी चाहे शकार बना लेते हैं . ऐसा ही एक मामला एक बुजुर्ग मौलाना और पवित्र कही जाने वाली मस्जिद में चल रहा था जहाँ एक अबोध बालिका का निकाह चुपके से पढ़ाया गया . मौलाना को पता था कि चुपके से केवल अपराध किये जाते हैं और वो ऐसा ही कर रहे थे .

चुपके से निकाह रूप अपराध के 3 पहलू थे . हिन्दू संगठन हिन्दू रक्षा दल का पहला आरोप है कि वो बालिका नाबालिग थी और नाबालिग बालिका से विवाह किसी भी प्रकार से सामजिक और कानूनी अपराध है . दूसरा पहलू था कि बालिका दूसरे धर्म की थी इसलिए मौलाना को और जल्दी थी इसे करने की .. तीसरा पहलू था कि ये बालिका तेलंगाना से भगा कर लाई गयी थी जिसके माता पिता का अपनी बेटी को खोज कर बुरा हाल था . उनके आंसू नहीं थम रहे थे अपनी बेटी के इस तरह अचानक गायब हो जाने पर ..

मौलाना ये सारा कुकृत्य गाजियाबाद के नंदग्राम इलाके की एक मस्जिद में कराया था जहां एक स्थानीय वर्ग विशेष निवासी ने इनको छुपा कर रखा था . इस पूरे प्रकरण में लिप्त लोगों को जबकि निश्चित रूप से उसे कानून की पूरी जानकारी थी . अपनी नजर चरों तरफ गड़ाए बैठे हिन्दू संघठनो को इस बात की भनक लग गयी ..उसके बाद हिन्दू रक्षा दल नाम के संगठन ने मस्जिद और जिस घर में लड़की को छिपाया गया था उसको घेर लिया और मौलवी के साथ लड़की को छिपा कर रखे स्थानीय को बाहर निकालने लगे. थोड़ी देर में वहां पुलिस आ गयी और मौलाना ,  नाबालिग लड़की को भगा कर लाये अपराधी व् लड़की को हिरासत में ले कर थाने गयी . 

हिन्दू रक्षा दल के कार्यकर्ताओं के अनुसार तेलंगाना से भगा कर लाने के बाद उस नाबालिग लड़की का लगभग 10 दिनों से नई बस्ती नंदग्राम में रख कर शारीरिक शोषण किया जा रहा था. पुलिस के अनुसार विवेचना जारी है . हिन्दू रक्षा दल के कार्यकर्ताओं का कहना है कि वो इस विषय से जुड़े एक एक लोगों को सज़ा दिलाने तक चुप नहीं बैठेंगे.

Share This Post