केंद्र से फिर उलझी ममता बनर्जी… राजीव कुमार के लिए संविधान को चुनौती

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की केंद्र सरकार के साथ तकरार थमती हुई नजर नहीं आ रही है. शारदा चिटफंड घोटाले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर से सीबीआई की पूंछताछ को लेकर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जंग का एलान कर चुकी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एक बार फिर से तीखे तेवर दिखाए हैं. शारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई के राडार पर चल रहे कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के लिए ममता बनर्जी संविधान को चुनौती देने देने को तैयार हैं. पश्चिम बंगाल के पांच वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के खिलाफ केंद्र के दंडात्मक कार्रवाई करने पर विचार करने के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को कहा कि अगर उनके पदक वापस लिए जाते हैं तो वह उन्हें राज्य के सर्वोच्च सम्मान ‘बंग विभूषण’ से नवाजेंगी.

बता दें कि ममता सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में रविवार को धरना पर बैठ गई थीं और उन्होंने कहा था कि इस कदम के जरिए मोदी सरकार संविधान और संघीय ढांचे की भावना का गला घोंट रही है. डीजीपी वीरेंद्र कुमार सहित पांच अधिकारी चार फरवरी को ममता के धरनास्थल पर सादे कपड़ों में मौजूद थे. गुरुवार को इस बारे में संकेत दिया गया था कि केंद्रीय गृह मंत्रालय इन पांच अधिकारियों से उनके पदक वापस ले सकता है जो उनकी उत्कृष्ट सेवा के लिए दिया गया था. साथ ही, उनका ट्रांसफर भी रुक जाएगा. इन अधिकारियों में एडीजी (सुरक्षा) विनीत कुमार गोयल, एडीजी (कानून व्यवस्था) अनुज शर्मा, पुलिस कमिश्न (विधान नगर) ज्ञानवंत सिंह और कोलकाता के एडिशनल पुलिस कमिश्नर सुप्रीतम सरकार शामिल हैं.

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘राजीव कुमार के खिलाफ भी इस तरह की कार्रवाई होने की संभावना है.’ समझा जाता है कि गृह मंत्रालय ने कथित अनुशासन और अखिल भारतीय सेवा नियमों का उल्लंघन करने को लेकर कोलकाता पुलिस कमिश्नर के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की है. जब ममता से इस बारे में पूंछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘केंद्र की ओर से इन पांच वरिष्ठ अधिकारियों के पदक वापस लिए जाने पर मैं उन्हें राज्य का सर्वोच्च सम्मान बंग विभूषण दूंगी.’

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW